Current Crime
अन्य ख़बरें उत्तर प्रदेश ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

शमशान घाट मामले पर मुखर हुए महंत नारायण गिरी ने कहा- पार्षद हिमांशु मित्तल की करूंगा मुख्यमंत्री से शिकायत

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। हिण्डन शमशान घाट का घमासान बढ़ता ही जा रहा है। यहां पर सबसे पहले भाजपा पार्षद और जीडीए बोर्ड सदस्य हिमांशु मित्तल ने लकड़ी के रेट को लेकर मोर्चा खोला था और फिर यहां बनाया गया मंदिर भी सीन में आ गया। हिमांशु मित्तल ने दो दिन पहले ही प्रदेश के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर यहां बनाये गये मंदिर को अवैध बताया था और शमशान से जुड़े कई मुद्दे उठाये थे। हिमांशु मित्तल ने जब शमशान घाट में बने मंदिर को ध्वस्त करने की मांग उठाई तो श्री दूधेश्वरनाथ मठ मंदिर के महंत नारायण गिरी सामने आ गये। उन्होंने करंट क्राइम से बातचीत में कहा कि दो लोगों के बीच के निजी विवाद में मंदिर कहां से आ गया। महंत नारायण गिरी ने कहा कि यह तो हिंदू धर्म में पहले से ही है कि शमशान भूमि में शिव भगवान का वास होता है। महंत नारायण गिरी ने कहा कि हिण्डन शमशान घाट पहले से ही शिव मंदिर बना हुआ है और यह मंदिर शमशान घाट संचालकों का नहंी बल्कि जूना अखाड़े का मंदिर है। यहां जूना अखाड़े के साधु रहते आये हैं। यहां किसी नये मंदिर का निर्माण नहीं हुआ है बल्कि प्राचीन शिव मंदिर का जीर्णोद्धार कराया गया है। महंत नारायण गिरी ने कहा कि हिमांशु मित्तल जिस शमशान घाट में स्थित मंदिर में इतनी रूची ले रहे हैं वह तो उस क्षेत्र के पार्षद भी नहीं है। महंत नारायण गिरी ने कहा कि शमशान घाट में यदि शिव का मंदिर नहीं होगा तो किसका मंदिर होगा।
महंत नारायण गिरी ने कहा कि वह इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अवगत करायेंगे और ऐसे पार्षद की शिकायत करूंगा कि ऐसे लोगों को पद से हटाया जाये। मैं भाजपा पार्षद की शिकायत मुख्यमंत्री से करने जा रहा हूं। यह मामला पूरी तरह धर्म से जुड़ा है और निगम पार्षद हिमांशु मित्तल धर्म का ठेकेदार नहीं है।

हरिद्वार जाने के कारण नहीं रहूंगा प्रेसवार्ता में मौजूद

शमशान घाट और मंदिर विवाद को लेकर हो रही प्रेसवार्ता का निमंत्रण श्री धार्मिक रामचन्द्र सीतादेवी हरनंदी सेवा संस्था द्वारा सभी मीडिया हाउस में दिया गया था। समिति का कहना है कि शवों के अंतिम दाह संस्कार के सम्बंध में काफी दुष्प्रचार किया जा रहा है और मोक्ष धाम पर निर्मित मंदिर व अन्य निर्माणों को ध्वस्त कराने का षड्यंत्र किया जा रहा है। इस सम्बंध में अपना पक्ष रखने के लिए शुक्रवार को मोक्ष धाम हिण्डन पर प्रेसवार्ता बुलाई गयी है। इस प्रेसवार्ता में महंत नारायण गिरी द्वारा सम्बोधित करने की बात कही गयी थी। करंट क्राइम से बातचीत के दौरान महंत नारायण गिरी ने कहा कि उन्हें आवश्यक कार्य से हरिद्वार जाना है। इसलिए वह इस प्रेसवार्ता में उपलब्ध नहीं रहेंगे।

संस्था के कानूनी सलाहकार ने भेजा है प्रेसवार्ता का निमंत्रण

इस संस्था के अध्यक्ष आचार्य मनीष हैं और संस्था के लेटरपैड पर जो प्रेसवार्ता का निमंत्रण भेजा गया वह समिति के अध्यक्ष या अन्य किसी पदाधिकारी द्वारा नहीं बल्कि समिति के कानूनी सलाहकार रजनीकांत शर्मा द्वारा भेजा गया है। समिति के कानूनी सलाहकार द्वारा भेजे गये पत्र में कहा गया है कि मोक्ष धाम हिण्डन नदी पर शवों के अंतिम दाह संस्कार के सम्बंध में काफी दुष्प्रचार किया जा रहा है। मोक्ष धाम पर निर्मित मंदिर व अन्य निर्माणों को ध्वस्त कराने हेतु षड्यंत्र किया जा रहा है। इन विवादों के सन्दर्भ में अपना पक्ष रखने के लिए शुक्रवार सायं 4:30 मोक्ष धाम हिण्डन पर एक पत्रकार वार्ता का इंतजाम किया गया है। पत्रकार वार्ता को श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा वाराणसी के अन्तर्राष्टय प्रवक्ता महंत नारायण गिरी सम्बोधित करेंगे।

विवाद है शव का और मुद्दे में ले आयें है शिव भगवान को

महंत नारायण गिरी हिण्डन शमशान भूमि विवाद को लेकर पहली बार बोले और उन्होंने कहा कि विवाद शव का है और विवाद में शिव भगवान के मंदिर को ले आये हैं। उन्होंने कहा कि हिमांशु मित्तल ने शमशान भूमि के आचार्य मनीष को शाम सात बजे के बाद किसी शव के दाह संस्कार के लिए फोन किया था। मनीष ने नियम और व्यवस्था का हवाला देकर दाह संस्कार कराने से मना कर दिया था। वहीं से निगम पार्षद हिमांशु मित्तल ने विवाद करना शुरू किया और पहले लकड़ी के रेट को लेकर विवाद उठाया और अब मंदिर को लेकर शासन तक शिकायत कर रहे हैं। दाह संस्कार कराना या ना कराना और समय को लेकर जो भी विवाद है वह हिमांशु मित्तल और मनीष के बीच का निजी मामला है। व्यक्तिगत विवाद में मंदिर कहां से आ गया। यह समझ से परे है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: