लोस चुनाव- बसपा-सपा महागठबंधन के बाद साझा झंडे की की बढी़ मांग

0
77

लखनऊ (ईएमएस)। लोकसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा के बाद भाजपा को शिकस्त देने के लिए उत्तर प्रदेश में एक-दूसरे की घोर विरोधी रही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) ने आपस में हाथ मिला लिया है। दोनों दलों में गठबंधन के बाद अब उनके झंडे भी एक हो गए हैं। इस झंडे में दो हिस्‍से हैं- एक लाल जो समाजवादी पार्टी के झंडे का एक रंग है और दूसरे हिस्‍से में नीला रंग है। हाथी के चुनाव निशान वाला नीला झंडा बसपा का है। इस झंडे पर मायावती और अखिलेश यादव की तस्‍वीर भी बनी हुई है। सपा-बसपा के एक साथ वाले झंडे की उनके समर्थकों में काफी मांग है। बताया जा रहा है कि गठबंधनों के इतिहास में यह अप्रत्‍याशित हो सकता है, जब दोनों ही दलों ने अपने कार्यालय साझा करने और संयुक्‍त रैलियां आयोजित करने का फैसला किया है। राजधानी लखनऊ के विक्रमादित्‍य मार्ग के पास स्थित एक दुकानदार ने कहा, ‘मायावती के फोटो के बिना शायद ही कोई समाजवादी पार्टी का झंडा बिक रहा हो। सभी लोग साझा झंडे पर मायावती और अखिलेश दोनों के कटआउट चाहते हैं। हमने कुछ नमूने प्रिंट किए और यह तेजी से चल निकला।’ इस साझा झंडे को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि आधा हिस्‍से में मायावती और बसपा का चुनाव निशान हाथी नजर आए और आधे हिस्‍से में अखिलेश यादव और सपा का चुनाव निशान साइकल दिखाई दे।
इस तरह के अब तक 2000 से अधिक झंडे बिक चुके हैं और इन चुनावी सामानों की खूब डिमांड है। एक छोटे से झंडे की कीमत 80 रुपये है। हालांकि कपड़े के झंडे सस्‍ते हैं। एक अन्‍य दुकानदार ने कहा, ‘ये झंडे अहमदाबाद और सूरत में बने फैब्रिक से बनाए जा रहे हैं। इन्‍हें बनकर आने में करीब दो महीने लगते हैं। हालांकि छोटे झंडे स्‍थानीय स्‍तर पर बनाए गए हैं।’ इन झंडों की लोकप्रियता को भुनाते हुए पार्टियां स्‍पेशल कॉफी मग लेकर आ रही हैं जिस पर अखिलेश और मायावती का चित्र बना हुआ है। उधर, दोनों ही दलों ने अभी तक चुनाव प्रचार शुरू नहीं किया है लेकिन बताया जा रहा है कि गुरुवार को अखिलेश यादव ने अचानक मायावती से मुलाकात की है। इसमें फैसला किया गया है कि नवरात्र शुरू होने पर अप्रैल में संयुक्‍त रैलियां शुरू हो जाएंगी। दोनों नेताओं के बीच यह बैठक ऐसे समय पर हुई है जब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर से मेरठ में मुलाकात की थी। ज्ञात हो कि लोकसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा हो चुकी है और यूपी में 7 चरणों में मतदान होंगे। 23 मई को वोटों की गिनती होगी।