सौरभ भारद्वाज बोले, असामाजिक तत्वों को उकसाते है, जिससे वो हमला करें दिल्ली विवि में फिर से चुनाव कराने पर संशय बरकरार, हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा वैश्विक प्रतिभा सूची में भारत दो पायदान फिसलकर 53वें स्थान पर, स्विट्जरलैंड शीर्ष पर पीएम मोदी ने ‘कारोबार में सुगमता’ से जुड़े ग्रैंड चैलेंज का किया शुभारंभ भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टी20 आज, आठवीं श्रृंखला जीतने उतरेगी टीम इंडिया दोपहर 1.20 से शुरु होगा मुकाबला स्मिथ और वॉर्नर की वापसी की उम्मीदें टूटी, सीए ने प्रतिबंध बरकरार रखा मैरी कॉम सेमीफाइनल में पहुंची टीम इंडिया ने 12 खिलाड़ियों की घोषणा की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी सायबर कैफे संचालकों को करना होगा आदेश का पालन हर्षिता तोमर ने मध्यप्रदेश को दिलाया स्वर्ण पदक खेल संचालक ने बधाई दी
Home / राज्य / मध्यप्रदेश / अक्टूबर माह में सुप्रीम कोर्ट और संसद के सामने वकीलों का महा प्रदर्शन

अक्टूबर माह में सुप्रीम कोर्ट और संसद के सामने वकीलों का महा प्रदर्शन

भोपाल (ईएमएस)। मध्य प्रदेश स्टेट बार काउंसिल ने 17 सितंबर को हाईकोर्ट की तीनों बेंचो में स्टेट बार काउंसिल की सामान्य सभा की बैठक बुलाई है। इस बैठक में अधिवक्ताओं की स्वतंत्रता पर लगातार जो कुठाराघात हो रहा है, उसके संबंध में चर्चा की जाएगी। हाईकोर्ट के आदेश पर पुनर्विचार के लिए फुल बेंच गठित कर सुनवाई किए जाने की मांग भी करने के लिए इस बैठक में निर्णय लिया जाएगा।
स्टेट बार काउंसिल के चेयरमैन शिवेंद्र उपाध्याय वरिष्ठ सदस्य राधे लाल गुप्ता, आरके सिंह सैनी, मनोज शर्मा की उपस्थिति में राज्य के सभी वकीलों से अनुरोध किया गया है कि वह अक्टूबर माह में दिल्ली में होने वाले महा प्रदर्शन में भाग लेने के लिए तैयार रहें। अधिक से अधिक वकीलों को इस महा प्रदर्शन में पहुंचकर इसे सफल बनाना है।
बार काउंसिल के अधिवक्ता हाई कोर्ट द्वारा प्रवीण पांडे की जनहित याचिका में जो आदेश पारित किया गया है। उसे प्रदेश के वकीलों की गरिमा को हनन करने वाला बताया है। मध्य प्रदेश के सभी अधिवक्ता इस बात से काफी नाराज बताए जा रहे हैं।

Check Also

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह 21 नवंबर को इंदौर में भरेंगे भाजपा के विरुद्ध हुंकार

भोपाल (ईएमएस)। एमपी विधानसभा चुनाव का प्रचार चरम पर है। प्रतिद्वंदी दल एक दूसरे पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *