बीकानेर लैंड डील में वकीलों को पेशी के लिए किया जा रहा मजबूर : वाड्रा

0
2

नई दिल्ली (ईएमएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सन 2012 के कोलायत जमीन सौदे की जांच के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा को फिर समन भेजा है। इसके बाद राजनीति गरमा गई है। वाड्रा ने कहा राजस्थान में विधानसभा चुनाव से दो दिन पहले मेरे वकीलों को जयपुर कोर्ट में पेशी को मजबूर किया जा रहा है। उन्होंने अपने एक बयान में लिखा है कि राजनीति से प्रेरित मामला है। सरकार के विभाग मुझे बदनाम करने में जुटे हैं। मेरे वकील को दवाब के तहत आज फिर जयपुर में पेश होना है। मुझसे वही दस्तावेज फिर मांगे जा रहे हैं, जिन्हें हम पहले ही दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान चुनाव के दो दिन पहले परेशान किया जा रहा है। उन्होंने कहा जांच में सच सामने आएगा।
30 नवंबर को ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा को समन भेजा था। आरोप है कि वाड्रा को जमीन खरीदने के लिए कर्ज देने वाली कंपनी को आयकर समाधान आयोग से कर में बड़ी राहत मिली थी। बीकानेर में वाड्रा की कंपनियों की संलिप्तता वाले विवादित जमीन लेन-देन की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने आयकर समाधान आयोग से भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड से जुड़े मामले की प्रक्रिया का ब्यौरा मांगा है, जिसने एक कंपनी को वाड्रा की कंपनी की जमीन सात गुनी महंगी दर पर अधिग्रहण करने के लिए कर्ज दिया था। ईडी राजस्थान के बीकानेर की सीमा पर कोलायत इलाके में कथित जमीन खरीद घोटाले की जांज कर रही है।
ईडी के अधिकारी के अनुसार, स्काइलाइट हॉस्पिटैलिटी ने 69.55 हेक्टेयर जमीन 72 लाख रुपए में खरीदकर उसे अलेगेनी फिनलीज को 5.15 करोड़ रुपए में बेची थी जिसमें उसे 4.43 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। धोखाधड़ी के आरोप में राजस्थान पुलिस द्वारा दर्ज मामले में संज्ञान लेते हुए एजेंसी ने धनशोधन कानून के तहत 2015 में एक आपराधिक मामला दर्ज किया था।