मोदी के मैजिक से गुलजार पतंग बाजार

0
88

नई दिल्ली (ईएमएस)। त्योहारों का सीजन शुरू होते ही बाजारों में इसकी रौनक दिखने लगती है। ऐसे में इस बार एक साथ दो त्योहार एक रक्षाबंधन और दूसरा स्वतंत्रता दिवस आने से इसको लेकर बाजार भी पूरी तरीके से तैयार हैं। इसी क्रम में दिल्ली का पतंग बाजार अपनी रंग-बिरंगी पतंगों से सभी को अपनी तरफ आकर्षित कर रहा है। बता दें कि दिल्ली में हौजकाजी इलाके के लाल कुआं बाजार में पतंग का बड़ा बाजार है। वहीं, इन दिनों देश के माहौल के अनुरूप हर जगह में मोदी मोदी की पुकार है। कश्मीर से धारा 370 और 35 ए को हटाने के बाद देश के साथ ही पतंगों पर भी मोदी का खुमार चढ़ा हुआ है। लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती मोदी वाली पतंग 20 से 200 रुपए की कीमत में खूब बेची जा रही हैं। इसके साथ ही मोदी और राहुल गांधी की महासंग्राम की पतंगें भी लोगों को पसंद आ रही हैं।
मालूम हो कि 15 अगस्त पर नीला आसमान रंग-बिरंगी पतंगों से भरा नजर आता है और इसी के चलते लोग पतंग की जमकर खरीदारी कर रहे हैं। इस सिलसिले में दिल्ली के बाजारों में तरह-तरह के स्लोगन लिखी हुई पतंगे भी मिल रही है, जो लोगों को बेहद पसंद आ रहे हैं। मोदी की फोटो वाली पतंगों पर कई तरीके के स्लोगन भी लिखे हैं, जैसे आई लव माय इंडिया, मोदी है तो मुमकिन है, नई सोच नई उमंग, देश के सबसे लोकप्रिय नेता मोदी आदि।
दिल्ली के लाल कुआं में पतंग बेचने वाले दुकानदार बताते है कि इस बार 15 अगस्त और रक्षाबंधन साथ पड़ने से पतंगों की बिक्री पर जरूर असर पड़ा है, क्योंकि रक्षाबंधन के कारण पतंगें लोग ज्यादा नहीं खरीद रहे हैं। दुकानदारों ने बताया अगस्त महीने में खरीददारों की चहल-पहल से बाजार में रौनक रहती थी, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है।पतंगों का कारोबार ठीक से ना होने कारण कुछ दुकानदार परेशान भी हैं। पतंग बाजार में बच्चों की पसंद को देखते हुए बार्बी, मोटू पतलू, छोटा भीम, डोरेमोन जैसी पतंगें है, जिनकी कीमत भी बहुत कम है और वह बच्चों को भी पसंद आ रही है। वहीं, पतंग की डोर सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होती है,लेकिन जिस तरीके से चाइनीस मांजे पर सरकार ने रोक लगाई है, उसे देखते हुए बाजार में चाइनीज मांझा कहीं नजर नहीं आ रहा। लोगों का कहना है कि चाइनीज मांझे से कई तरीके की दुर्घटनाएं होती हैं, इसीलिए धागे वाला मांझा ही बेचा जा रहा है।