कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / अन्य ख़बरें / ओलांद के स्पष्टीकरण के बाद राफेल करार पर संदेह करना ठीक नहीं : राजनाथ

ओलांद के स्पष्टीकरण के बाद राफेल करार पर संदेह करना ठीक नहीं : राजनाथ

लखनऊ। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल सौदे को लेकर भाजपा पर हमलावर कांग्रेस पर आरोप लगाया कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलोंद के स्पष्टीकरण के बाद अब इस मामले का पटाक्षेप हो चुका है। सिंह ने मध्य क्षेत्रीय परिषद की बैठक के बाद एक सवाल के जवाब में कहा कि राफेल सौदे को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलोंद का स्पष्टीकरण आ चुका है। अब इस मामले में संदेह नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि अगले लोकसभा चुनाव में फायदा लेने की मंशा से यह पार्टी बिना बात के मुद्दे को मुद्दा बना रही है। सिंह ने आरोप लगाया कि विपक्ष के पास अब कोई मुद्दा नहीं रह गया है इसीलिए वह राफेल मामले को बेवजह मुद्दा बना रहा है। गृह मंत्री ने एक अन्य सवाल पर कहा कि कश्मीर की समस्या बढ़ नहीं रही है, बल्कि उन्हें विश्वास है कि यह मसला जरूर हल होगा। उन्होंने कहा हम सब से बात करने को तैयार हैं। जहां तक आतंकवाद का सवाल है तो सभी सुरक्षा एजेंसियां परस्पर तालमेल के साथ काम कर रही हैं।
गृह मंत्री ने आरोप लगाया कि कश्मीर का आतंकवाद पूरी तरह से पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है। सिंह ने मध्य क्षेत्रीय परिषद की बैठक में लिए गए निर्णयों का जिक्र करते हुए कहा कि बैठक में 22 में से 20 बिंदुओं को सुलझा लिया गया। बाकी दो मुद्दों को अगली बैठक में लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकारी संघवाद की भावना के अनुरूप इस बैठक का आयोजन किया गया था। गृह मंत्री ने बताया कि पिछले सवा चार साल में इन परिषदों की हुई 12 बैठकों में 680 मुद्दों पर विचार हुआ और उनमें से 428 का हल निकाला जा चुका है। उन्होंने बताया कि बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ छत्तीसगढ़ तथा मध्य प्रदेश के सरकार के प्रतिनिधि भी शामिल हुए।

Check Also

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने सजा-ए-मौत पर रोक के खिलाफ किया वोट

जिनेवा (ईएमएस)। भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में मौत की सजा पर रोक लगाने को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *