प्राकृतिक आपदाओं से हुई मौतों में भारत दुनिया में दूसरा सबसे खराब देश

0
1

नई दिल्ली (ईएमएस)। दुनिया में खराब मौसम की वजह से होने वाली त्रासदियों और लोगों की मौत के मामले में 2017 में भारत दुनिया में 14वें नंबर पर था। 2015 में मामले में भारत चौथे और 2016 में छठे नंबर पर था। इस लिहाज़ से कह सकते हैं कि 2017 में भारत ने अपनी स्थिति में सुधार किया था, लेकिन 2018 में भारत को इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर रखा गया है। 2013 में भारत इस मामले में तीसरे नंबर पर था, जिसके बाद से अबतक यह भारत की सबसे बुरी स्थिति है। पोलैंड में हुई यूएन क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि भारत ग्लोबल क्लाइमेट रिस्क इंडेक्स में दूसरे नंबर पर है। सीआरआई जलवायु परिवर्तन से जुड़ी वजहों से किसी देश में प्रति लाख आबादी में लोगों की मौत आकंड़े से उस देश की जीडीपी को होने वाले नुकसान के विश्लेषण पर आधारित है। इस कैल्कुलेशन में बाढ़, साइक्लोन, टॉरनेडो, लू और शीत लहर से होने वाली मौतों को शामिल किया जाता है। आंकड़ों की बात करें, तो भारत में 2017 में प्राकृतिक आपदाओं से 2,736 मौतें दर्ज की गईं, जबकि पुअर्तो रीको 2,978 मौतों के साथ इस लिस्ट में पहले नंबर पर है।
ये आंकड़े जारी करते हुए संस्था की तरफ से कहा गया कि सीआरआई किसी देश में मौसम संबंधी त्रांसदियों से होने वाली मौत के बारे में बताता है। साथ ही, यह देशों को आगाह करता है कि भविष्य में इस मामलों में इन देशों को और ज़्यादा तैयार रहने की ज़रूरत है। जारी किए गए दस्तावेज बताते हैं कि अकेले 2017 में पूरी दुनिया में 11,500 लोगों की मौत हुई और इससे करीब 375 बिलियन डॉलर यानी 30 हज़ार करोड़ डॉलर से ज़्यादा का आर्थिक नुकसान हुआ। यह आंकड़े 2017 से पहले के बरसों से मुकाबले सबसे ज़्यादा हैं। 2013 में उत्तराखंड त्रासदी की वजह से भारत की रैकिंग बहुत खराब हो गई थी। वहीं इस साल भारत के दूसरे नंबर पर होने की सबसे बड़ी वजह केरल में आई बाढ़ है।