इमरान खान का कबुलनामा, पाकिस्तान में रची गई मुंबई हमले की साजिश, दोषियों को दूंगा सजा सपा बोली- योगी आदित्यनाथ यूपी के सबसे अयोग्य मुख्यमंत्री करंट से समलैंगिकता का इलाज करने वाले चिकित्सक को कोर्ट ने किया तलब फिल्‍म निर्माता प्रेरणा अरोरा गिरफ्तार शरद यादव ने वसुंधरा के बारे में दिए गए बयान पर खेद जताया 21 साल बाद राजकुमारी दीया ने मांगा तलाक दिल्ली-एनसीआर: दो हफ्तों से हवा में कोई सुधार नहीं प्रवासी भारतीय देश की विकास गाथा के दूत हैं: गृह राज्‍यमंत्री रिजिजू रेप पीड़िता के इलाज के एवज में 9 लाख का बिल निजी अस्पतालों में होगा ‘आयुष्मान’ के दो तिहाई मरीजों का उपचार
Home / अन्य ख़बरें / संयुक्त राष्ट्र में भारत ने सजा-ए-मौत पर रोक के खिलाफ किया वोट

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने सजा-ए-मौत पर रोक के खिलाफ किया वोट

जिनेवा (ईएमएस)। भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में मौत की सजा पर रोक लगाने को लेकर पेश एक मसौदा प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया। उसने कहा कि यह देश के वैधानिक कानून के खिलाफ जाता है, जहां इस तरह की सजा ‘रेयरेस्ट ऑफ रेयर’ केस में दी जाती है। सुयंक्त राष्ट्र महासभा की तीसरी कमेटी (सामाजिक,मानवीय, सांस्कृतिक) में पेश किए गए इस मसौदा प्रस्ताव के पक्ष में 123, खिलाफ में 36 मत पड़े और 30 सदस्यों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। इसी के साथ यह मसौदा प्रस्ताव मंजूर कर लिया गया। भारत उन देशों में शामिल था, जिसने इस प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया। इस प्रस्ताव में महासभा ने सभी सदस्य देशों से मौत की सजा पाने वाले व्यक्तियों के अधिकारों से जुड़े अंतरराष्ट्रीय मानकों का सम्मान करने और यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि इस पक्षपाती कानूनों के आधार पर या कानून के भेदभावपूर्ण या मनमाने इस्तेमाल के परिणाम स्वरूप लागू नहीं किया जाए।
भारत के स्थायी मिशन में प्रथम सचिव पॉलोमी त्रिपाठी ने देश के मत पर सफाई देते हुए कहा कि प्रस्ताव मौत की सजा को खत्म करने के मकसद से फांसी की सजा पर रोक लगाने को बढ़ावा देने की बात करता है। उन्होंने कहा, ‘मेरे डेलिगेशन ने इस पूरे प्रस्ताव के खिलाफ वोट किया है, क्योंकि यह भारत के वैधानिक कानून के खिलाफ जाता है,’ त्रिपाठी ने कहा, भारत में मौत की सजा ‘रेयरेस्ट ऑफ रेयर’ मामलों में दी जाती है, जहां अपराध इतना जघन्य होता है कि पूरे समाज को झकझोर देता है। भारतीय कानून स्वतंत्र अदालत द्वारा निष्पक्ष सुनवाई, दोष साबित होने तक निर्दोष माने जाने की धारणा, बचाव के लिए न्यूनतम गारंटी और ऊपरी अदालत द्वारा समीक्षा के अधिकार समेत सभी अपेक्षित प्रक्रियात्मक सुरक्षा उपायों का प्रावधान करता है। मसौदा प्रस्ताव पारित होने से पहले इस पर बहुत गहन चर्चा हुई थी। कमेटी ने इसके पक्ष में पड़े 96 वोटों के साथ संशोधन को स्वीकार कर लिया था। भारत ने संशोधन के पक्ष में वोट डाला था।

Check Also

इलेक्ट्रिकल-ऑटोमेशन व्यवसाय के बारे में प्रतिस्पर्धा आयोग ने लोगों से मांगी राय

नई दिल्ली (ईएमएस)। भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीए) ने 16 जुलाई, 2018 को लारसन एंड टूब्रो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *