भारत के मामलों में अपनी नाक न घुसेड़े अमे‎रिका: ‎शिवसेना

0
38

मुंबई (ईएमएस)। शिवसेना ने अमेरिका की ट्रंप सरकार पर निशाना साधा है। शिवसेना ने अमेरिका पर यह हमला उसके विदेश विभाग की उस रिपोर्ट को लेकर किया है जिसमें कहा गया है कि भारत में धर्म के नाम पर हिंसा बढ़ गई है। अमेरिकी चुगलखोरी शीर्षक से शिवसेना ने अपने अखबार के संपादकीय में लिखा है ‎कि हिंदुस्तान में धर्म के नाम पर हिंसा बढ़ गई है और हिंदू संगठन अल्पसंख्यकों और मुसलमानों पर हमले कर रहे हैं, ऐसा शोध अमेरिका के विदेश विभाग ने किया है। इसके अलावा इन हमलों को रोकने में मोदी सरकार नाकाम रही है। ऐसा हमेशा का तुनतुना भी अमेरिका ने बजाया है। अमेरिका में सरकार किसी की भी हो लेकिन वे दुनिया के स्वघोषित पालनहार होते हैं। इसके पहले भी गोमांस रखने की शंका पर हमारे देश में जो कुछ भी मौतें हुईं, उस पर अमेरिका ने मगरमच्छ के आंसू बहाए थे और हिंदुस्तान की सरकार को आरोपी के कटघरे में खड़ा किया था।
अभी भी धर्म और गोरक्षा के कारण हिंदू संगठनों द्वारा मुसलमान और अल्पसंख्यकों पर सामूहिक हमला बढ़ा है, ऐसा इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम इंडिया-2018 नाम से अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा प्रसिद्ध रिपोर्ट में कहा गया है। इस रिपोर्ट में ऐसा शोध किया गया है कि 2015 से 2017 के दौरान हिंदुस्तान में जातीय हिंसा 9 प्रतिशत बढ़ी और 822 घटनाओं में 111 लोगों की मौत हुई। अमेरिकी प्रशासन को प्राप्त दिव्य दृष्टि के कारण हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि विश्व के सभी छोटे-मोटे देशों में होनेवाले मानवाधिकार उल्लंघन और वहां अल्पसंख्यकों पर हमले आदि उन्हें बैठे-बैठे पता चल जाता है। कुछ वर्ष पहले भी खाड़ी देशों में फैले अरब स्प्रिंग आंदोलन का रूपांतर युद्ध में हुआ और उसके कारण अमेरिकी संबंध बिगड़ गए। स्वाभाविक तौर पर ही अमेरिका ने इन देशों में अपनी नाक घुसेड़ी थी।