Current Crime
उत्तर प्रदेश राज्य

अयोध्या में शिवसेना व विहिप के आयोजनों से बढ़ी हलचल, भारी बल तैनात

अयोध्या (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर को लेकर चल रहे सियासी घमासान के बीच लिए अगले दो दिन काफी हलचल के रहने वाले हैं। विहिप और शिवसेना राम मंदिर को लेकर मेगा शो आयोजित कर अपनी ताकत और सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश में लगे हुए हैं। सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या विवाद की सुनवाई जनवरी तक टालने के बाद से ही हिंदूवादी संगठन राम मंदिर के मुद्दे पर आक्रामक रुख अपनाए हुए है। ये संगठन केंद्र सरकार से राम मंदिर पर अध्यादेश लाने की मांग कर रहे हैं। इस बीच, शनिवार और रविवार को होने वाले कार्यक्रमों के देखते हुए पूरे अयोध्या को किले में तब्दील कर दिया गया है। अर्द्धसैनिक बलों के जवान, राज्य का खुफिया विभाग और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी शुक्रवार से ही शहर में मौजूद हैं। शहर को आठ जोनों और 16 सेक्टर्स में बांटा गया है। शहर में पीएसी की 20 कंपनियां, अर्द्धसैनिक बल की सात और रैपिड ऐक्शन फोर्स की दो कंपनियों को तैनात किया गया है।
अल्पसंख्यक परिवारों में असुरक्षा की खबरों के बीच पूरे अयोध्या में धारा 144 लगा दी गई है। राज्य सरकार ने लखनऊ जोन के एडीजी आशुतोष पांडेय और झांसी रेंज के आईजी एसएस बघेल को सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी के लिए भेजा गया है। आरएसएस के एक वरिष्ठ प्रचारक ने वाराणसी ने कहा, करीब 1,322 बसों और 1,546 फोर वीलर्स में 80 हजार कार्यकर्ताओं को लाया जाएगा। 14 हजार कार्यकर्ता मोटरसाइकिल और करीब 15 हजार कार्यकर्ता ट्रेन के जरिए अयोध्या पहुंचेंगे।
शिवसेना भी इस मेगा शो में अपना ताकत प्रदर्शन करने वाली है। ठाणे से पांच ट्रेनों से करीब 3-4 हजार कार्यकर्ता अयोध्या पहुंच रहे हैं। अयोध्या शिवसेना के भगवे झंडे से पट गया है। दो दिन के इस कार्यक्रम में पार्टी के 22 सांसद और 62 विधायकों के भी यहां पहुंचने की उम्मीद है। इस कार्यक्रम के लिए पार्टी ने एक महीने पहले ही अयोध्या और उसके आसपास को होटलों को बुक कर लिया था। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और उनके पुत्र आदित्य ठाकरे दो अलग-अलग चार्टर्ड विमान से शनिवार को दोपहर दो बजे तक अयोध्या पहुंचेंगे। उद्धव यहां संतों से मिलेंगे और शाम को सरयू आरती करेंगे। रविवार को उद्धव रामजन्मभूमि जाएंगे और उसी दिन दोपहर तीन बजे मुंबई के लिए रवाना हो जाएंगे। सूत्रों का कहना है कि इन दोनों संगठनों में से करीब एक लाख आरएसएस और इतने ही विश्व हिंदू परिषद कार्यकर्ता रविवार को अयोध्या में जुटने वाले हैं। इनके अलावा बड़ी संख्या में साधु-संत भी यहां जुटेंगे। विश्व हिंदू परिषद के आयोजकों का कहना है कि वे रविवार के आयोजन के लिए फूड पैकेट्स तैयार कर रहे हैं। इस आयोजन में बड़ी संख्या में जुटकर मेगा-शो से 2019 लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की भाजपा सरकार पर अध्यादेश लाकर राम मंदिर निर्माण का दबाव डालने की तैयारी है।
शहर में अल्पसंख्यक समुदाय के डरे होने की खबरों के बीच धारा 144 लागू कर दी गई है। धर्मसभा में मुस्लिम भी पहुंचेंगे, जिसका जिम्मा संघ ने मुस्लिम राष्ट्रीय मंच को सौंपा है। मंच से जुड़े और सुन्नी सोशल फोरम के संयोजक रईस खान कहते हैं कि हमारे पास करीब 3000 लोगों की सूची है, जो धर्मसभा में शामिल होंगे। राम हमारे नबी हैं। हम बसों से लोगों को ले जा रहे हैं। इनमें महिलाएं भी शामिल हैं। कमिश्नर डीएम डीआईजी व सुरक्षा से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में हर हाल में लॉ एंड ऑर्डर को बनाए रखने की रणनीति बनी है। प्रभारी एसएसपी संजय कुमार ने बताया कि राम जन्म भूमि परिसर के चारों तरफ त्रिस्तरीय बैरीकेडिंग करवाई गई है। इसके चारों तरफ वीडियो कैमरे सीसी कैमरे, ड्रोन कैमरे से निगरानी की जा रही है। 47 कंपनी पीएसी व सिविल पुलिस अयोध्या में तैनात कर दी गई है। पूरी सख्ती के साथ चेकिंग अभियान भी चल रहा है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: