Current Crime
अन्य ख़बरें उत्तर प्रदेश

राममंदिर ट्रस्ट की शनिवार को अहम बैठक, भूमिपूजन का निकलेगा मुहूर्त

नई दिल्ली। यूपी के अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास (ट्रस्ट) की शनिवार को दूसरी महत्वपूर्ण बैठक होगी जिसमें राममंदिर के भूमिपूजन का मुहूर्त निकलेगा। बैठक में ट्रस्ट की भवन निर्माण समिति के प्रमुख नृपेंद्र मिश्रा भी शामिल होंगे। बैठक के एजेंडे में मंदिर के आकार के मुताबिक मॉडल में बदलाव, निर्माण का इंतज़ाम, लागत और कोष पर चर्चा भी शामिल है। बताया जा रहा है कि हनुमान जयंती या अक्षय तृतीया के मुहूर्त में किसी एक पर विचार किया जा सकता है। इससे पहले भवन निर्माण समिति 28 और 29 फरवरी को नृपेंद्र मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक कर रामलला मंदिर के भवन निर्माण के सभी बिंदुओं पर विचार करेगी। सबसे पहले भूमि के सर्वेक्षण, माप और मिट्टी की गुणवत्ता जांचने के काम पूरे किए जाएंगे। इसके बाद सक्षम निर्माण कंपनियों से नक्शे और डिजाइन के मुताबिक निविदा आमंत्रित की जाएगी।
मालूम हो कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने अभी हाल में मीडिया से बात करते हुए साफ-साफ कहा था कि मंदिर निर्माण से पहले सिर्फ भूमि पूजन होगा, शिलान्यास का कार्यक्रम नहीं होगा। महंत के मुताबिक साल 1992 में शिलान्यास हो चुका है। ऐसे में बार-बार शिलान्यास नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया गया है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही महंत नृत्य गोपाल दास की अगुवाई में ट्रस्ट के सदस्यों ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की थी।
ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास, महामंत्री चंपत राय और ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास 7, लोक कल्याण मार्ग पर मुलाकात की थी। प्रधानमंत्री ने उन्हें अयोध्या जाने का आश्वासन भी दिया है। मुलाकात के दौरान मंदिर निर्माण में भूमिका के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया गया और अलग-अलग पहलुओं पर चर्चा की गई। ट्रस्ट की तरफ से पीएम मोदी को ट्रस्ट की पहली बैठक के दौरान हुई बातों की जानकारी दी गई। ट्रस्ट के सदस्यों ने शिलान्यास के मुहूर्त पर मोदी को अयोध्या आने का न्योता दिया। प्रधानमंत्री से मिलने के बाद ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने मीडिया से कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से कहा है कि अब ज्यादा प्रतीक्षा का समय नहीं है, लिहाजा मंदिर का निर्माण अब तेज तेज गति से होनी चाहिए।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: