एशेज सीरीज से नये नियम लाएगी आईसीसी

0
58

लंदन (ईएमएस)। आईसीसी एक अगस्त से शुरू हो रही एशेज सीरीज से नए नियमों को ला सकती है। यह नियम सिर में चोट लगने पर उस खिलाड़ी के स्थान पर सबस्टिट्यूट (स्थानापन्न) खिलाड़ी को मंजूरी देना है। खेल को सुरक्षित बनाने के तहत आईसीसी यह नियम ला रही है और एशेज सीरीज के बाद इसे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के अन्य प्रारूपों में भी लागू किया जा सकता है। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर फिल ह्यूज की दर्दनाक मौत के बाद से ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के लिए किसी खिलाड़ी के बेहोश होने पर स्थानापन्न खिलाड़ी रखने का मसला मुख्य विषय बना हुआ है। ह्यूज नवंबर 2014 में शैफील्ड शील्ड मैच के दौरान सिर में चोट लगने से घायल हो गए थे और बाद में उनकी मौत हो गई थी। यह मसला लंदन में चल रहे आईसीसी वार्षिक सम्मेलन के एजेंडे में शामिल है तथा खेल की परिस्थितियों में बदलाव को मंजूरी देकर उन्हें तुरंत प्रभाव से लागू किया जा सकता है जिससे एशेज सीरीज से शुरू होने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के मैच सुरक्षा के इन्हीं नियमों के तहत खेले जा सकें।
ह्यूज की असमय मौत ने आईसीसी को गेंद के सिर में चोट लगने से होने वाले मस्तिष्काघात से तात्कालिक और लंबी अवधि के प्रभावों पर जागरुकता लाने के लिए प्रेरित किया। आईसीसी ने 2017 में घरेलू स्तर पर परीक्षण के तौर पर सिर में लगने वाली चोट से बेहोशी आने पर कॉनकशन सबस्टिट्यूट खिलाड़ी उतारने की शुरुआत की थी। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 2016-17 सत्र से मेंस और विमिंस वनडे कप और बीबीएल तथा विमिंस बीबीएल में इस तरह के स्थानापन्न खिलाड़ी उतारने की व्यवस्था की थी, लेकिन शैफील्ड शील्ड में इसे लागू करने के लिए उसे मई 2017 तक आईसीसी की मंजूरी का इंतजार करना पड़ा था।