आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने बाल यौन उत्पीड़न के पीड़ितों से माफी मांगी
Home / अन्य ख़बरें / ‘मैं रोज मंडोला आऊंगा, मुझे रोज करें गिरफ्तार’

‘मैं रोज मंडोला आऊंगा, मुझे रोज करें गिरफ्तार’

प्रदेश सरकार की तानाशाही से किसान परेशान: राज बब्बर, अर्धनग्न किसानों से मिलने जा रहे राजबब्बर और उनके समर्थकों को लिया हिरासत में
लोनी (करंट क्राइम)। बुधवार को प्रशासन ने आवास विकास के खिलाफ धरने पर बैठे अर्धनग्न किसानों से मिलने जा रहे कांगेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर को मंडोला गांव पहुँचने से पहले हिरासत में ले लिया। धरनारत किसानो से मिलने की जिद पर अड़े कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष से प्रशासन की नोकझोंक भी हुई। राजबब्बर का अडिग फैसला देख प्रशासन ने उनके पचास समर्थकों के साथ हिरासत में ले साहिबाबाद वसुंधरा स्थित गेस्ट हाउस भेज दिया है।
बता दें कि मंडोला किसान आवास विकास के खिलाफ दो दिसंबर से भूमि अधिग्रहण के मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठे थे। दो जून को किसानों के साथ पुलिस व प्रशासान द्वारा की गई मारपीट में दर्जनों किसान घायल हो गये थे। यह जानकारी मिलते ही दस जून को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर अपने काफिले के साथ मंडोला गांव के पीड़ित किसानों के बीच पहुंच उन्हें आश्वासन दिया था कि अब पीड़ित किसान अपना हक पाने के लिए सिर्फ सहयोग करें। किसानों का हक दिलाने के लिए अब कांग्रेस लड़ाई लड़ने का काम करेंगी। अब किसानों को अपने हक के लिए परेशान होने की जरुरत नही है। कांग्रेस पार्टी किसानों की हितैषी है। यह साबित करने के लिए बुधवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर अर्धनग्न धरनारत किसानों से मिलने मंडोला गांवआ रहे थे। लेकिन जैसे ही एक बजकर पचास मिनट पर दिल्ली से यू पी बार्डर पर पहुँचे तभी उन्हें प्रशासन ने रोक दिया। प्रशासन का अडिग फैसला देख वह अपने समर्थकों के साथ वहीं बैठ रघुपति राघव राजाराम का गुणगान करने लग गये। परंतु जैसे ही लगभग तीन बजे उठकर मंडोला की ओर चलने लगे पुलिस बल ने उन्हें रोक लिया। धक्का मुक्की के साथ प्रशासन ने कांग्रेस अध्यक्ष और उनके पचास समर्थको को हिरासत में लेकर साहिबाबाद स्थित गेस्ट हाउस भेज दिया। उन्होंने कहा कि यह उत्तर प्रदेश सरकार की तानाशाही है। प्रदेश की सरकार से किसान पीड़ित हैं और उनकी आवाज को सुनने नहीं दिया जा रहा है। प्रदेश सरकार किसानों का हल नही निकाल रही है। मैं उनके हल के लिए आया हूँ। आप मेरी गाड़ी केआगे पांच गाड़ी लगा दो और पांच पीछे लगा दो। प्रशासन मेरे साथ चलकर किसानों से वार्ता करें और उनकी जायज मांगों को माने मैं वादा करता हूँ कि कोई हंगामा नहीं होगा। परंतु फिर भी अगर मुझे रोका जा रहा है तो मैं रोज किसानों की आवाज सुनने आऊंगा। प्रशासन रोज मुझे गिरफ्तार करें। राज बब्बर के साथ पूर्व विधान परिषद नेता नसीब पठान, पूर्व विधायक दल के नेता प्रदीप माथुर। पूर्व सांसद विजेंदर सिंह, पूर्व सांसद सुरेंद्र गोयल पूर्व मंत्री सतीश शर्मा, प्रदेश महासचिव विजेंद्र यादव, नरेश राठी, प्रदेश सचिव संजीव शर्मा, महानगर अध्यक्ष नरेंद्र भारद्वाज, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता विजय चौधरी, पंकज मलिक आदि सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।
मंडोला में भारी पुलिस बल रहा तैनात
प्रशासन को जैसे ही सूचना मिली कि धरनारत किसानों से मिलने कांगेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर मंडोला आ रहे है। सुबह से ही दो बस पीएसी, फायर ब्रिगेड और भारी पुलिस बल के साथ धरनास्थल पर तैनात रहा।
भाकियू ने दिखाए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को काले झंडे
भातीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष सचिन शर्मा के नेतृत्व में सैकड़ों की तादाद में किसानों ने कांग्रेस के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर को काले झंडे दिखाए । इस मौके पर पं. सचिन शर्मा ने कहा कि मंडोला गांव में किसानों को कांग्रेस द्वारा गुमराह किया जा रहा है। कांग्रेस के शासनकाल में किसानों को बिना? 1 रुपए मुआवजा दिए जमीन हथियाने का काम किया गया था। इससे पहले भी कांग्रेस के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष मंडोला आए थे। और एक साल बाद उन्हें किसानों की दोबारा याद आई है। इससे यह साफ जाहिर होता है कि वह यहां पर षड्यंत्र के तहत किसानों को भड़काने के लिए आते हैं। और उनका कोई उद्देश्य नहीं है। यह गंदी राजनीति भारतीय किसान यूनियन अब नहीं होने देगी। भारतीय किसान यूनियन हमेशा किसानों के साथ है। इस मौके पर उनके सैकड़ों समर्थक मौजूद रहे।

Check Also

‘अरेंज्ड’ हलाला इस्लामिक नहीं है­ : दारुल उलूम

मुजफ्फरनगर (ईएमएस)। मुसलमानों में ‘अरेंज्ड’ हलाला इस्लामिक नहीं है और ऐसा करने वाले लोगों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *