Current Crime
ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

..ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफर के लिए

पात्र अपात्र की सूची के आंकड़ों में गुम होता गरीब परिवार
लोनी (करंट क्राइम)। न हो कमीज तो पांवों से पेट ढक लेंगे,ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफर के लिए। उक्त शेर की तर्ज पर पंद्रह सालों से बिना छत के गुजर बसर कर रहा चन्द्रावती का परिवार अब पक्की छत की उम्मीद लगभग छोड़ चुका है। हुक्मरानों को इस परिवार पर दया नही आती। पात्र अपात्र के खेल और आवास की सूची के आंकड़ों में यह परिवार गुम है। बरसात,धूप और ठंड सहने का आदि हो चुके इस परिवार की उम्मीद मर सी गई है।सत्ता और वोट वालों के आश्वासनों का घंूट पीकर थक चुके इस परिवार का अब लोगों से विश्वास भी उठ चुका है।ऐसा भी नही है कि चन्द्रावती ने अधिकारियों से गुहार नही लगाई है,लेकिन उसका दर्द सुनने वाला कोई नही है। अब तो इस मुफलिसी को अपना भाग्य मान चुकी चन्द्रावती किसी से शिकायत भी नही करती। उससे भी नही जिसने छत दिलाने का वादा किया था और उससे भी नही जो पक्के मकान के सपने दिखाकर सौ दो सौ रुपये ठग ले गया।जानकारी के अनुसार लोनी नगरपालिका की राज कालोनी चमन विहार की रहने वाली चन्द्रावती अपने पति विजय कुमार व छह बच्चों के साथ विगत 15 वर्षों से सीमेंट की टूटी फूटी चादर व कपड़े का तम्बू तानकर सर्द रातें व दहकते दिन काट रही है। पति मेहनत से मजदूरी करता है लेकिन सिस्टम की मार से वह उबर नही पा रहा है। रोज कमाना और रोज खाना अब यही उसकी किस्मत बन चुका है। प्रतिदिन काम न मिल पाने के कारण जीवन यापन दुखदायी है। शनिवार को जब बारिश होने लगी तो चंद्रावती के परिवार के सदस्य बल्ली और पन्नी पकड़ कर खड़े हो गए। बच्चे सर्द हवा से कांप रहे थे। मुसीबत की दास्तां चंद्रावती जैसी महिला ही बता सकती है। गरीब परिवार बारिश के मौसम में परिवार के साथ बैठकर रात गुजारतें हैं। चंद्रावती ने अपना दुख दर्द बयां करते हुए बताया कि वह सरकार की उन योजनाओं को कोस रहे हैं जिससे आए दिन बड़े बड़े वादे किए जाते हैं गरीबों की हित की बात की जाती है। किंतु हम जैसे गरीबों का दुख दर्द सुनने वाला कोई नही है। एक छत के लिए दर-दर भटक रहे हैं लेकिन कुछ भी आस नही दिखती। लॉक डाउन लगने से कर्जदार और हो गए हैं। अपनी व्यथा सुनाने के लिए कई बार अधिकारियों से मुलाकात करना चाहा लेकिन संपर्क नही हो पाया।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: