Current Crime
राजस्थान राज्य

जंतर मंतर पर नहीं है हिंदी ऑडियो गाइड

जयपुर (ईएमएस)। अगर आपको इग्लिश, फ्रेंच, स्पेनिश और चाइजीज जैसी लैग्वेज आती है तो आप जंतर मंतर की आसानी से सैर कर सकते है साथ ही आप आसानी से जरूरी जानकारियां भी हासिल कर सकते है और अगर ये चारों लैग्वें नहीं आती तो आपको कई सारी दिक्कतों का सामना करना पड सकता है। जी हां हम बात कर रहे है शहर में स्थित खगोलिया वेधशाला जंतर मंतर की। यहां आपको इग्लिंश फ्रेच,स्पेनिश और चाइनीज जैसी लैग्वेज में तो ऑडियो गाइड की सुविधा मिल जाएगी, लेकिन हिन्दी में जंतर मंतर पर ऑडियो गाइड की कोई व्यवस्था नहीं है। गौरतलब है कि जयपुर के संस्थापक सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1728 से 1734 के बीच जंतर मंतर का निर्माण करवाया था। इस वेधशाला में 18 प्रमुख यन्त्र है जो समय मापने, ग्रहण की भविष्याणी करने, किसी तारे की गति एवं स्थिति जानने, सौर मंडल, के गहों के दिक्पात जानने आदि में सहायक है। जंतर मंतर को 2010 में यूनेस्कों के विश्व धरोहर सूची में भी शामिल किया गया है जंतर मंतर देखने देश विदेश के कोने कोने से लाखों टूरिस्टस हर साल यहां आते है पर्यटकों की सुविधा को ध्यान में रखकर और टूरिस्टस को इस ऐतिहासिक धरोहर की जानकारी देने के उददेश्य से प्रशासन ने यहां इग्लिश, फ्रेप, स्पेनिश चाइनीज लैग्वेज में तो लगवाया है लेकिन राष्ट्रभाषा हिदी को दरकिनार करते हुए यहां हिदी में ऑडियो गाइड की कोई व्यवस्था नहीं है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: