Current Crime
दिल्ली

कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने उठाये दो अहम कदम: केजरीवाल

नयी दिल्ली| दिल्ली में कोरोना संक्रमण के भयावह होते रूप के बीच शुक्रवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि सरकार ने स्थिति पर नियंत्रण के लिए दो अहम कदम उठाये हैं और लोगों को घबराने कि जरूरत नहीं है। श्री केजरीवाल ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मीडिया से कहा कि एक तो प्लाज्मा थेरेपी और दूसरा ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने पर विशेष जोर दिया जा रहा है। प्लाज्मा थेरेपी का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे कोरोना मरीजों के इलाज में अच्छे परिणाम सामने आए हैं। प्लाजमा थेरेपी का 29 मरीजों पर इस्तेमाल किया गया था, जो ठीक हो गए हैं । अब सरकार को 200 मरीजों का इलाज इस विधि से करने की इजाजत मिली है। एलएनजेपी और राजीव गांधी अस्पताल में प्लाज्मा थेरेपी की जा रही है।

गौरतलब है कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री की हालत गंभीर होने पर उन्हें प्लाजमा थेरेपी दी गई थी।

श्री केजरीवाल ने कहा कि जिन संक्रमितों की हालत ज्यादा खराब है और वे वेटिंलेटर पर हों तथा उनके विभिन्न अंगों ने काम करना बंद कर दिया हो तो उन पर इस थेरेपी का असर संभवतः न हो, लेकिन जिन की हालत थोड़ी ठीक है, उन पर इस थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। ऑक्सीजन स्तर के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि सामान्य तौर पर व्यक्ति का ऑक्सीजन स्तर 95 होना चाहिए।
अगर ये 90 से कम हो जाए तो यह खतरा माना जाता है और 85 से कम हो जाए तो बहुत गंभीर माना जाता है। ऑक्सीजन स्तर कम होने पर सांस लेने में दिक्कत होती है। कई मरीजों में देखा गया कि ऑक्सीजन स्तर कम है, लेकिन लक्षण नहीं है। उन्होंने कहा कि जिन मरीजों में ऑक्सीजन स्तर कम होने का लक्षण नहीं होता है, उनका ऑक्सीजन स्तर अचानक गिरता है और मौत हो जाती है। होम आइसोलेशन के सभी मरीजों को ऑक्सीमीटर दे दिया गया है। यह ऑक्सीमीटर उनका सुरक्षा कवच है। मरीज को हर घंटे अथवा दो घंटे पर ऑक्सीजन स्तर नापते रहना चाहिए।

श्री केजरीवाल ने कहा कि मरीज को ऑक्सीजन स्तर 94 के नीचे आने पर फोन कर देना चाहिए। उसके घर पर ऑक्सीजन की व्यवस्था की जायेगी अथवा अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। उन्होंने कहा ऑक्सीमीटर मरीज का अहम सुरक्षा कवच है।
ऑक्सीजन स्तर पर बराबर निगरानी रखी जायेगी और इसको नापते रहना ठीक रहेगा। देश में कोरोना मामले में दिल्ली दूसरे स्थान पर है। दिल्ली में अब वाणिज्यिक नगरी मुंबई से अधिक मामले हैं। दिल्ली में कुल मामले 73780 और संक्रमण से 2429 की मौत हो चुकी है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: