Current Crime
दिल्ली देश

देश में ऑक्सीजन संकट से निपटने गूगल आया साथ, लगाएगा 80 ऑक्सीजन प्लांट

  • ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य कर्मचारियों कौशल विकास में मदद करेगी

नई दिल्ली। देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सबसे बड़ा संकट ऑक्सीजन का रहा था। लेकिन अब भारत में गूगल 80 ऑक्सीजन प्लांट की मदद के लिए सामने आया है। प्रौद्योगिकी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी गूगल ने गुरुवार को बताया कि उसकी परोपकार शाखा गूगल डॉट ऑर्ग विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर देश में 80 ऑक्सीजन प्लांटों की खरीद और स्थापना करेगा। विशेषतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य कर्मचारियों के कौशल विकास में मदद के लिए कंपनी 113 करोड़ रुपये (1.55 करोड़ डॉलर) का अनुदान देगी।

बता दें कि गूगल डॉट ऑर्ग अपने एलान के तहत 80 ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना के लिए गिवइंडिया को करीब 90 करोड़ और पाथ को करीब 18.5 करोड़ रुपये प्रदान करेगी। इसके अलावा ग्रामीण स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने के लिए अपोलो मेडस्किल्स के जरिए कोरोना प्रबंधन में 20,000 अग्रणी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करने की तरफ ध्यान दिया जाएगा। इसके लिए गूगल डॉट ऑर्ग भारत के 15 राज्यों में 180,000 आशा कार्यकर्ताओं और 40,000 एएनएम के कौशल विकास के लिए 3.6 करोड़ रुपये (पांच लाख अमरीकी डॉलर) का अनुदान अरमान को प्रदान देगा। गूगल द्वारा अरमान को मिले अनुदान के इस्तेमाल से आशा और एएनएम को अतिरिक्त सहायता और सलाह प्रदान करने के लिए कॉल सेंटर की स्थापना होगी। गूगल इंडिया के कंट्री हेड और उपाध्यक्ष संजय गुप्ता ने बताया कि गूगल में लोगों के पास सुरक्षित रहने के लिए जरूरी जानकारी और उपकरण होने चाहिए।

बता दें कि इसके पहले गूगल से पहले यूनिसेफ भी वैश्विक सहयोग के तहत भारत में नौ ऑक्सीजन प्लांट लगाने की घोषणा कर चुका है। इसके साथ ही यूनीसेफ ने भारत को 4,500 से अधिक ऑक्सीजन कन्संट्रेटर और 200 आरटी-पीसीआर जांच मशीनें उपलब्ध कराई थी। ये नौ ऑक्सीजन प्लांट गुजरात, अरुणाचल प्रदेश और त्रिपुरा में अस्पतालों में लगाए जा रहे हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: