Current Crime
राजस्थान राज्य

मेरे बयानों को गलत तरीके से पेश किया: गहलोत राष्ट्रपति कोविंद पर बयान देकर फंसे मुख्यमंत्री

जयपुर (ईएमएस)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पर दिए गए बयान को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कुछ मीडिया संस्थानों द्वारा उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। श्रीगहलोत ने पत्रकारों से चर्चा में कहा, ‘मैंने एक आलेख में पढ़ा था कि वह इस बात को लेकर चिंतित थे कि गुजरात में उनकी सरकार नहीं बन सकती है। तब अमित शाह ने अपने दिमाग को काम पर लगाया और जातिगत गणित को सही करने के लिए कोविंद जी को राष्ट्रपति बनाया। मुझे विश्वास है कि पार्टी ने इस दौड़ में बीजेपी के दिग्गज लालकृष्ण आडवाणी को बाहर कर कोविंद को राष्ट्रपति बनाने का निर्णय किया।’जब बीजेपी ने चुनाव आयोग से उनके बयान पर संज्ञान लेने का आग्रह किया तो गहलोत ने कहा कि प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिए गए उनके बयान को कुछ मीडिया संस्थानों ने गलत तरीके से पेश किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली पर टिप्पणी करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह पांच वर्षों से केवल जुमला पेश कर रहे हैं। बीजेपी ने उनपर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस राष्ट्रपति के विरुद्ध है, जोकि गरीब दलित समुदाय से आते हैं। पार्टी प्रवक्ता जीवीएलएन राव ने नई दिल्ली में कहा, ‘हम चुनाव आयोग से अशोक गहलोत को नोटिस देने और एक दिशानिर्देश जारी करने का आग्रह करते हैं कि किसी भी राजनीतिक पार्टी को राष्ट्रपति की आलोचना से संबंधित बयान नहीं देना चाहिए।’ अशोक गहलोत ने इसके बाद ट्वीट कर कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मेरे बयान को कुछ मीडिया घरानों ने तोड़-मरोड़ कर पेश किया। मैं भारत के राष्ट्रपति का बहुत सम्मान करता हूं और खासतौर पर रामनाथ जी का, जिनसे मैं निजी तौर पर मिल चुका हूं और उनकी सादगी और विनम्रता से बहुत प्रभावित हूं।’ मालूम हो कि श्री गेहलोत ने जयपुर में कहा कि बीजेपी ने 2017 में गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले रामनाथ कोविंद को जातिगत समीकरण को संतुलित करने और किसी खास समुदाय से वोट हासिल करने के लिए राष्ट्रपति बनाया।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: