कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / राज्य / उत्तराखंड / गंगा शुद्धिकरण के लिए 111 दिनों से अनशन पर हैं संत गोपालदास की हालत बिगड़ी, एम्स में भर्ती

गंगा शुद्धिकरण के लिए 111 दिनों से अनशन पर हैं संत गोपालदास की हालत बिगड़ी, एम्स में भर्ती

ऋषिकेश (ईएमएस)। पौराणिक महत्व वाली देश की नदी गंगा की शुद्धिकरण के लिए अनशन करने वाले प्रो. जीडी अग्रवाल के एम्स में निधन के दो दिन बाद नदी के संरक्षण के लिए उपवास पर बैठे एक अन्य संत गोपालदास को शनिवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जीडी अग्रवाल 111 दिनों से अनशन पर थे। संत गोपालदास (36) पिछले 111 दिनों से गंगा की रक्षा के लिए उपवास पर हैं। उन्होंने तीन दिन पहले पानी पीना भी छोड़ दिया था। ऋषिकेश स्थित एम्स के कार्यवाहक चिकित्सा अधीक्षक ब्रिजेंद्र सिंह ने बताया कि उन्हें शनिवार तड़के तीन बजकर 45 मिनट पर एम्स लाया गया था और आपातकालीन वार्ड में भर्ती कराया गया। उन्होंने बताया कि कार्यकर्ता का एम्स के एंडोक्रिनोलॉजी वार्ड में इलाज चल रहा है। एम्स में उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों के दल की प्रमुख मीनाक्षी धर ने बताया कि लंबे समय से उपवास करने के चलते संत गोपालदास की हालत खराब है। उनमें पानी की भी कमी है। उनके शरीर में शर्करा का स्तर गिरकर 65 पर पहुंच गया है। उन्होंने कुछ भी खाने या इलाज कराने से इनकार कर दिया है जिसके कारण उन्हें अंत: शिरा (नसों) के जरिये तरल भोजन दिया जा रहा है। प्रशासन ने गोपालदास की जान बचाने के लिए उन्हें जबरन खिलाने समेत कोई भी कदम उठाने की एम्स को अनुमति दे दी है।
संत गोपालदास ने बद्रीनाथ में गंगा नदी की तलहटी में खनन के खिलाफ अपना उपवास शुरू किया था और वह 24 जून से ऋषिकेश में गंगा के बाग घाट और त्रिवेणी में उपवास कर रहे थे। उनके समर्थक अरविंद हटवाल ने एम्स में यह जानकारी दी।

Check Also

इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक

रुड़की (ईएमएस)। आईआईटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के वैज्ञानिकों की टीम ने एक शोध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *