सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / गांधी से बड़ा ब्रांड नेम हैं मोदी : अनिल विज

गांधी से बड़ा ब्रांड नेम हैं मोदी : अनिल विज

चंडीगढ़| हरियाणा में मनोहरलाल खट्टर की सरकार में मंत्री अनिल विज के बयान से एक ताजा विवाद पैदा हो गया है। उन्होंने शनिवार को कहा कि भारतीय नोटों पर से भी धीरे-धीरे महात्मा गांधी की तस्वीर हटा दी जाएगी और गांधी की तुलना में मोदी अधिक लोकप्रिय हैं। अपनी पार्टी व उसके नेतृत्व सहित किसी भी मुद्दे पर विवादास्पद बयानों के लिए जाने जानेवाले विज ने अंबाला में संवाददाताओं से कहा कि खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के 2017 के कैलेंडर व डायरी से गांधी की तस्वीर को मोदी से बदलने के बाद नोटों पर से भी गांधी की तस्वीर हटाई जाएगी।

कांग्रेस ने जहां इस मुद्दे पर भाजपा नेता के मानसिकता की आलोचना की वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने यह कहकर उनकी टिप्पणी से किनारा कर लिया कि यह उनकी व्यक्तिगत राय हो सकती है।

हरियाणा के स्वास्थ्य व खेल मंत्री ने शनिवार को बाद में ट्वीट किया, “महात्मा गांधी पर टिप्पणी व्यक्तिगत थी। किसी की भावना को ठेस न पहुंचे, इसके लिए मैं अपनी टिप्पणी वापस ले रहा हूं।”

उन्होंने हालांकि अपनी विवादास्पद टिप्पणी के लिए कोई माफी नहीं मांगी।

अंबाला में संवाददाताओं से विज ने कहा कि जिस दिन से खादी (आंदोलन) को महात्मा गांधी से जोड़ा गया, खादी नाकाम हो गया। खादी के साथ गांधी के नाम का पेटेंट नहीं हुआ है।

मंत्री यहीं नहीं रुके।

उन्होंने कहा, “जिस दिन से रुपये पर गांधी की तस्वीर छपनी शुरू हुई, उसकी कीमत घटनी शुरू हो गई। अच्छा किया है गांधी का नाम हटाके मोदी का लगाया है। मोदी ज्यादा बेहतर ब्रांड नेम है और मोदी की फोटो लगने से 14 फीसदी बिक्री बढ़ी है खादी की।”

यह पूछे जाने पर कि मोदी सरकार के कार्यकाल में नए नोटों पर महात्मा गांधी की तस्वीर क्यों छापी गई, विज ने कहा, “हट जाएगा धीरे-धीरे।”

सारा विवाद खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के नए साल के कैलेंडर व डायरी पर महात्मा गांधी की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छपने के बाद शुरू हुआ है।

Check Also

नेताओं के चक्कर नहीं कटे लोग, बच्चों को दे बेहतर शिक्षा : खट्टर

जींद (ईएमएस)। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *