पाकिस्तान में पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी गिरफ्तार, बैंक खातों में अरबों की हेरा-फेरी का आरोप

0
61

इस्लामाबाद (ईएमएस)। पाकिस्तान के राष्ट्रीय जवादेही ब्‍यूरो ने पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को फर्जी बैंक खातों के मामले गिरफ्तार किया है। जरदारी की जमानत याचिका खारिज होने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया है। मंगलवार को जरदारी को अदालत के सामने पेश किया जाएगा। जरदारी अभी अंतरिम जमानत पर हैं। परवेज़ मुसर्रफ के बाद जरदारी दुसरे राष्ट्रपति हैं जिनपर शिकंजा कैसा गया है। नवाज़ शरीफ भी जेल जा चुके हैं।
ज्ञात रहे कि बीते मई महीने में पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को भ्रष्टाचार के छह मामलों में इस्लामाबाद हाईकोर्ट से अंतरिम जमानत मिली थी। पाकिस्तान की भ्रष्टाचार निगरानी संस्था इन मामलों की जांच कर रही है। पाकिस्तान के राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो की ओर से मंगलवार को अदालत में पेश 11 पन्नों की रिपोर्ट के अनुसार 36 जांच मामलों में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के 63 वर्षीय सह-अध्यक्ष का नाम है और एनएबी का दावा है कि कम से कम आठ मामलों में जरदारी की भूमिका साबित हुई है।
न्यायमूर्ति उमर फारुक की अगुवाई वाली दो न्यायाधीशों की पीठ ने छह मामलों में गिरफ्तारी से पहले जमानत की मांग वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान उनकी बेटी फरयाल तलपुर को अंतरिम जमानत दे दी थी। अदालत ने जरदारी को धनशोधन मामले में 30 मई तक की अंतरिम जमानत दे दी थी। उन्हें 225 संपत्ति से संबंधित जांच के मामले में भी 12 जून तक अंतरिम जमानत दी गई थी।
कुछ समय पूर्व ही जरदारी ने देश के प्रधानमंत्री इमरान खान को हटाने का संकल्प जाहिर करते हुए सरकार पर देश में महंगाई और बेरोजगारी बढ़ाने का आरोप लगाया था। जरदारी ने मीडिया से कहा था, ‘यदि प्रधानमंत्री को जल्द हटाया नहीं जाता है तो वह देश को ऐसी स्थिति में ले जाएंगे जहां से हमारे लिए भी देश को चलाना मुमकिन नहीं होगा।’ जरदारी ने सिंध के दौलतपुर प्रांत में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था, ‘मैं सत्ता का भूखा नहीं हूं, लेकिन मौजूदा सरकार को वापस भेज देना चाहिए अन्यथा, अधिकतर लोगों का जीवन दुखदायी हो जाएगा।