मिसाल बनी यह शादी: बिना खर्च एक-दूजे के हुए आईएएस और इंजीनियर

0
100

गाजियाबाद। सब-रजिस्ट्रार प्रथम के कार्यालय में हुई एक शादी सभी के लिए मिसाल बन गई। आईएएस नवीन चंद और सॉफ्टवेयर इंजिनियर अंजना ने सादगीपूर्ण ढंग से एक-दूसरे को वरमाला पहनाकर जन्म-जन्मांतर के बंधन में बंध गए। इस दौरान दोनों के परिवारवाले भी मौजूद रहे। नवविवाहित दंपती ने कहा कि शादी में खाने और तमाम इंतजामों पर लाखों रुपये खर्च होते हैं। अगर शादी को सादगीपूर्ण तरीके से किया जाए तो हम उन रुपयों से जरूरतमंद लोगों की मदद कर सकते हैं। आईएएस नवीन चंद और उनकी पत्नी अंजना शादी समारोह में लाखों रुपये खर्च करने के खिलाफ हैं। हम इन रुपयों से गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद भी कर सकते हैं। समाज को यही संदेश देने के लिए हम लोगों ने अपनी शादी को सादगीपूर्ण ढंग से करने का निर्णय लिया।
परिवार को इस बात से अवगत कराया तो सभी हमारे इस निर्णय से खुश हुए। इसके बाद हम दोनों अपने परिवार के सदस्यों के साथ बुधवार को सब-रजिस्ट्रार प्रथम रविंद्र मेहता के कार्यालय पहुंचे, जहां हम लोगों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाकर शादी कर ली। इसके बाद शादी को रजिस्टर्ड भी कराया। नवीन और अंजना ने कहा कि हमारी शादी पर जो रुपये होते, उन रुपयों से हम गरीब बालिकाओं को पढ़ाने का काम करने वाले है। उन्होंने कहा कि राजस्थान सहित कई राज्यों के गांवों में आज भी बालिकाएं आर्थिक तंगी के चलते पढ़ नहीं पाती हैं। इन बालिकाओं को पढ़ाना हम सभी का कर्तव्य है, जिसकी जिम्मेदारी हमें लेनी चाहिए। कविनगर निवासी नवीन चंद 2017 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उन्हें वेस्ट बंगाल कैडर मिला है। अभी वह ट्रेनिंग पर हैं। उनकी पत्नी अंजना राजस्थान के चुरू जिले की रहने वाली हैं और सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। नवीन चंद के पिता रामदेव ब्रिज कॉरपोरेशन और मां स्वर्णलता भागीरथ सेवा संस्थान में कार्यरत हैं। उनकी बहन नवनीत डॉक्टर हैं,वहीं दूसरी बहन मोहिनी भी सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही हैं। अंजना के पिता रामकुमार, मां गीता देवी, अनादि सुकुल के साथ शादी में अहम भूमिका निभाने वाले एडवोकेट अनिल आनंद भी मौजूद रहे।