मनमोहन ने की जस्टिस वर्मा के फैसले की आलोचना, हिंदुत्व को बताया था जीने का तरीका औवेसी के मुकाबले में धरती पुत्र को मैदान में उतारेगी बीजेपी एयर सेफ्टी ऑडिट में म्यांमार, पाक और नेपाल से भी पीछे भारत पंजाब के राज्यपाल और राजनाथ सिंह की बहू ने जीते रजत पदक जुलाई में रोजगार के करीब 14 लाख नए अवसर सृजित हुए: सीएसओ रिपोर्ट दो भारतीय बहनों ने लगाई प्रदर्शनी, बिक्री से होने वाली आय केरल बाढ़ पीड़ितों को देंगी दान ट्रूपिंग द कलर परेड में शामिल पहले सिख सैनिक ने लिया कोकीन – कोकीन होने की पुष्टि के बाद उन्हें पद से हटाया जा सकता है क के बोर्ड ने विलय को दी मंजूरी इस वर्ष सरकारी बैंक कर सकते हैं फंसे कर्ज की वसूली: वित्त मंत्रालय – 1.8 लाख करोड़ रुपए की वसूली होने का अनुमान ओपेक ने क्रूड उत्पादन बढ़ाने से ‎किया इंकार – और उछल सकते हैं पैट्रोल-डीजल के दाम
Home / राज्य / गुरुग्राम जमीन घोटाले में रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ प्राथमिकी

गुरुग्राम जमीन घोटाले में रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ प्राथमिकी

नई दिल्ली (ईएमएस)। हरियाणा के गांव शिकोहपुर में साढ़े तीन एकड़ जमीन की खरीद फरोख्त में हुए घोटाले के मामले में हरियाणा की खैडकीदौला थाना पुलिस ने रॉबर्ट वाड्रा, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, डीएलएफ कंपनी एवं मैसेर्ज ओकेश्वर प्रॉपर्टीज के खिलाफ धोखाधड़ी, साजिश रचने और भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है।
पुलिस को दी शिकायकत में सुरेंद्र शर्मा नामक व्यक्ति ने बताया कि 2007 में स्काईलाइट हॉस्पिलिटी नामक कंपनी ने गांव शिकोहपुर में साढ़े तीन एकड़ जमीन खरीदी। इस कंपनी के डायरेक्टर सोनिया गांधी के दामाद रोबर्ट वाड्रा हैं। यह जमीन ओकेंश्वर प्रॉपर्टीज के माध्यम से 58 करोड़ में खरीदी गई थी।
इसके बाद डीएलएफ कंपनी ने स्काईलाइट कंपनी को करोड़ों का फायदा पहुंचाते हुए इस जमीन को खरीद लिया। उस वक्त प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हूड्डा ने टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के माध्यम से न केवल नियम ताक पर रखते हुए इस जमीन का व्यावसायिक लाइसेंस दिलवाया बल्कि स्काईलाइट कंपनी को लाइसेंस देने के लिए नियमों की धज्जियाँ भी उड़ाई गई।
इतना ही नहीं गांव वजीराबाद में 350 एकड़ जमीन डीएलएफ कंपनी को गलत तरीके से अलॉट कर करीब पांच हजार करोड़ का फायदा पहुंचाया। पुलिस के अनुसार कंपनी ने जब शिकोहपुर की साढ़े तीन एकड़ की जमीन की रजिस्ट्री करवाई, उस वक्त उसकी वर्थ एक लाख रुपये थी। कंपनी के अकांउंट में पैसे नहीं थे। इतना ही नहीं रजिस्ट्री के दौरान जो चेक लगाए गए, वह भी कहीं पर कैश नहीं हुए।

Check Also

चीनी मिलों को सस्ता कर्ज उपलब्ध कराएगी उत्तर प्रदेश सरकार

लखनऊ (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की चीनी मिलों को राष्ट्रीयकृत एवं अन्य बैंकों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *