Current Crime
अन्य ख़बरें

श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर फीलिंग का सैलाब

  • जब पहुंचा राम भक्तों के पास संघ तो श्रद्धा के साथ दिए लाखों और कहा हम हैं संग

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)
गाजियाबाद। अयोध्या में प्रभु श्रीराम मंदिर का निर्माण हो रहा है। संघ ने मंदिर निर्माण में देश के हर राम भक्त का सहयोग लेने का फैसला किया। संघ ने 10 रूपये के कूपन से लेकर श्रद्धा अनुसार सहयोग राशि को समर्पण अभियान के साथ शुरू किया। संघ के सभी अनुषांगिक संगठन और भाजपा भी इस अभियान में लगी है। 14 जनवरी से ये अभियान शुरू हुआ और खास बात ये है कि ठीक वैसा ही रेस्पांस आ रहा है। जैसा संघ को उम्मीद थी। मंदिर निर्माण के लिए सहयोग और समर्पण में राजनीति नहीं बल्कि राम भक्त आगे आये हैं।
आम जनता इस अभियान से जुड़ी है और अब जिस तरह से लोग जुड़ रहे हैं, उससे लग रहा है कि सहयोग और समर्पण दोनों ही उस वर्ग से आ रहे हैं जिसे जनता कहा जाता है। राम मंदिर निर्माण को लेकर भक्तों का समर्पण दिखाई दे रहा है। जब संघ के लोग राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग समर्पण राशि लेने पहुंचे तो यहां राम भक्तों ने धन के साथ-साथ मन की भावनाओं को भी मानो साक्षात सहयोग राशि के साथ रख दिया। कहीं पति ने जब सवा लाख रूपये का चेक दिया तो पत्नी भी पीछे नहीं रही और उसने भी सवा लाख रूपये का चेक अपनी ओर से दिया।
माता-पिता ने जब राम के काम में समर्पण दिखाया तो बेटी ने भी अपनी गुल्लक के पैसे समर्पित किए। अस्पताल के डॉक्टर ने एक लाख रूपये प्रभु श्रीराम के काम के लिए दिए तो एक बच्ची ने तो बाकायदा 51 हजार की राशि देने के बाद वीडियो बनाकर अन्य लोगों से भी अपील की। बड़ी बात ये है कि लाखों रूपये का समर्पण सहयोग देने वाले ये सभी लोग राजनीति से नहीं हैं। ये सब लोग नौकरी पेशा हैं। इनमें बच्चे भी शामिल हैं और बुजुर्ग भी हैं। ये लोग एक मिसाल बने हैं और जिस तरह से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए पब्लिक ने अपनी फीलिंग को बाहर निकाला है उससे लग रहा है कि सहयोग राशि का टारगेट तो इन भावनाओं के आगे छोटा पड़ जायेगा। जब प्रभु श्रीराम मंदिर का निर्माण हो जायेगा तो भगवा गढ़ कहे जाने वाला गाजियाबाद भी मंदिर निर्माण के इतिहास वाले पन्नों में स्थान पायेगा।
मंदिन निर्माण में संघ के अभियान को पूरा जनसमर्थन मिल रहा है। अभियान जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है। वैसे-वैसे सहयोग समर्पण फीलिंग का सैलाब आ रहा है। बड़ी बात ये है कि ना तो संघ राजनीति से है और ना ही इस अभियान में पूरी श्रद्धा के साथ आगे आ रहे राम भक्त राजनीति से हैं। सहयोग राशि के ये सभी चेहरे नॉन पॉलिटिकल हैं। ये सब राम भक्त हैं और समर्पण उनका राम के लिए है।
पति-पत्नी ने दिए पांच लाख और बेटियों ने की गुल्लक दान
अभी तक ये संदेश था कि बड़े कारोबारी, उद्योगपति और राजनीति से जुड़े लोग ही राम मंदिर निर्माण के लिए एक बड़ी धनराशि दे रहे हैं। लेकिन यहां तो राम भक्तों की भावनाओं का एक सैलाब उमड़ रहा है। संघ के सह-विभाग प्रचारक वतन जी जब राजेन्द्र नगर, सैक्टर-3 लोहिया पार्क के सामने रहने वाले सचिन गोयल के यहां पहुंचे तो उन्हें उम्मीद थी कि प्रतिष्ठित व साधन सम्पन्न परिवार है इसलिए 11000 रूपये का सहयोग तो समर्पण राशि के रूप में मिलेगा। मगर ये परिवार तो प्रभु श्रीराम के काम के लिए कुछ ज्यादा ही दाम लेकर बैठा था। जब मंदिर निर्माण के लिए सहयोग समर्पण की बात आई तो यहां पर अद्भुत भाव समर्पण का नजारा देखने को मिला। वो हुआ जिसकी वतन जी को भी उम्मीद नहीं थी। अपेक्षा से अधिक सहयोग हुआ और मन की भावनाओं के साथ राम भक्त सचिन गोयल ने दो लाख 51 हजार रूपये का चेक दिया। जब पति ने प्रभु श्रीराम के काम के लिए दो लाख 51 हजार दिए तो उनकी पत्नी प्राची गोयल भी पीछे नहीं रही और उन्होंने भी दो लाख 51 हजार रूपये का चेक समर्पण राशि के रूप में सौंपा। पति-पत्नी ने पांच लाख रूपये से अधिक की धनराशि राम के काम के लिए दिए। जब माता पिता ने राम भक्ति और अपनी आस्था के साथ पांच लाख की धनराशि दी तो फिर राम भक्त माता-पिता की दोनों बेटियां भी आगे आर्इं। उन्होंने भी राम भक्ति भाव के साथ अपनी गुल्लक से 1100-1100 का सहयोग मंदिर निर्माण के लिए समर्पित किया।
जब नायरा गोयल ने 51 हजार की धनराशि के साथ की अपील
संघ का समर्पण सहयोग अभियान रंग ला रहा है। जनता समर्पण सहयोग के साथ आस्था और भक्ति वाले रंग में आगे है। किसी ने सही कहा है कि आस्था और निष्ठा की कोई कीमत नहीं होती। मनीष गोयल राधेश्याम पार्क समर्पण कार्यालय के सामने रहते हैं। उनके परिवार की नन्हीं बच्ची नायरा ने राम भक्ति और आस्था का सही से वास्ता लोगों को बताया। नायरा ने अपने परिवार के साथ 51051 की धनराशि समर्पण सहयोग के रूप में मंदिर निर्माण के लिए दी। इतना ही नहीं इस बच्ची ने जय श्रीराम के उद्घोष के साथ अपने मनी बैंक से दी गयी धनराशि का उल्लेख किया और सभी राम भक्तों से अपील की कि वह भी मंदिर निर्माण के लिए आगे आयें।
डॉ. युवराज ने दिए एक लाख प्रभु श्रीराम के नाम पर
संघ समर्पण सहयोग अभियान चला रहा है। संघ के सभी कार्यकर्ता और पदाधिकारी खुद घर-घर जा रहे हैं। संघ पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि इस अभियान के जरिये उसे धन से ज्यादा लोगों के मन तक पहुंचना है। संघ की ये मुहिम बता रही है कि पब्लिक के मन में श्रीराम आराध्य हैं और उनके नाम पर धन पूरी तरह समर्पित है। जब संघ की टीम एक अस्पताल के मालिक के पास पहुंची तो यहां भी जय श्रीराम के साथ भक्ति का एक सैलाब दिखाई दिया। अवंतिका अस्पताल के मालिक डॉ. युवराज ने प्रभु श्रीराम के काम के लिए एक लाख रूपये की धनराशि का सहयोग करने में एक मिनट भी नहीं लगाया। तत्काल उन्होंने श्रद्धा और आस्था के साथ यह धनराशि समर्पित की।
राम भक्तों ने समर्पण टोली को सौंपा 11 लाख का चेक
भगवान का काम हो रहा है और इस काम में हर राम भक्त अपनी हाजिरी लगाना चाहता है। संघ की टीमों को पूरी तवज्जो मिल रही है। जब ये टीम गोविंद कौशिक के पास पहुंची तो यहां राम भक्तों ने पूरे उत्साह के साथ 11 लाख 11 हजार 11 रूपये का चेक समर्पण सहयोग राशि के रूप में समर्पित किया।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: