Current Crime
देश

विशेषज्ञों का दावा: कोरोना का हो रहा कम्युनिटी ट्रांसमिशन

नई दिल्ली। घातक वायरस कोरोना से जूझ रहे देश में इसके थमने का नाम नहीं है इसके बढ़ते मामलों के बीच कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने दावा किया है कि अब देश में कोविड-19 संक्रमण का सामुदायिक संक्रमण (कम्युनिटी ट्रांसमिशन) हो रहा है। इन स्वास्थ्य विशेषज्ञों में एम्स के डॉक्टर, आईसीएमआर रिसर्च ग्रुप के दो सदस्य आदि शामिल हैं। देश में कोरोना मरीजों की संख्या सोमवार सुबह 1,90,535 पहुंच गई, वहीं, अब तक 5394 मौतें हो चुकी हैं। इसके बावजूद सरकार लगातार कहती रही है कि अभी भारत में कोरोना वायरस का सामुदायिक संक्रमण नहीं हो रहा है। भारत अब कोरोना वायरस से प्रभावित दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश बन चुका है। इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन (आईपीएचए), इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन (आईएपीएसएम) और इंडियन एसोसिएशन ऑफ एपिडेमियोलॉजिस्ट (आईएई) के विशेषज्ञों द्वारा संकलित रिपोर्ट प्रधानमंत्री को सौंपी गई है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि यह उम्मीद करना ठीक नहीं है कि इस स्तर पर कोरोना वायरस महामारी को समाप्त किया जा सकता है क्योंकि बीमारी का कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन से अपेक्षित फायदा यह था कि इस बीमारी को एक समय के भीतर ज्यादा फैलने से रोका जाए, जिससे प्रभावी ढंग से योजना बनाई जाए। अब लॉकडाउन के चौथे चरण के खत्म होने के बाद लगता है कि यह संभव हो गया है।16 सदस्यीय संयुक्त कोविड-19 टास्क फोर्स में आईएपीएसएम के पूर्व अध्यक्ष डॉ. शशि कांत, आईपीएचए के अध्यक्ष डॉ. संजय के.राय, बीएचयू के डॉ. डीसीएस रेड्डी और चंडीगढ़ स्थित पीजीआईएमईआर के डॉ. राजेश कुमार शामिल हैं। डॉ. रेड्डी और डॉ. कांत कोरोना महामारी के लिए महामारी विज्ञान और निगरानी पर एक आईसीएमआर के सदस्य हैं। रिपोर्ट में विशेषज्ञों ने यह भी कहा कि महामारी से निपटने के लिए फैसले लेते समय महामारी विज्ञानियों से परामर्श नहीं किया गया। विशेषज्ञों का कहना है कि मानवीय संकट और बीमारी फैलने दोनों के मामले में भारत भारी कीमत चुका रहा है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: