हर मर्ज की एक ही है दवा- सक्रिय जीवनशैली

0
6

नई दिल्ली (ईएमएस)। इसमें कोई शक नहीं है कि हर रोग की एक ही दवा है, सक्रिय जीवनशैली। अगर आप बीमारियों से दूर रहना चाहते हैं, तो अपनी निष्क्रिय और गतिहीन जीवनशैली को त्याग दीजिए। सिर्फ इतने भर से आप दिल से जुड़ी बीमारियों, स्ट्रोक, डायबीटीज और यहां तक की कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से भी बचे रह सकते हैं। एक्सर्साइज के जरिए न सिर्फ आप अपना वजन घटा सकते हैं, बल्कि मसल्स बना सकते हैं, हड्डियों और जॉइंट्स को मजबूत बना सकते हैं। एक्सर्साइज करने से न सिर्फ बेचैनी और तनाव कम होता है, बल्कि डिप्रेशन से बाहर निकलने में भी मदद मिलती है। सक्रिय जीवनशैली के लिए आपको दिनभर जिम में पसीना बहाने की जरूरत नहीं है। हाल ही में किए गए एक अध्ययन में सामने आया है कि हर दिन सिर्फ 22 मिनट की चहलकदमी से आपकी सेहत को काफी लाभ दे सकती है। अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिन मेडिसिन में प्रकाशित इस अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि वैसे लोग जो हर दिन कम से कम 30 मिनट की वॉकिंग करते हैं उनकी मौत की आशंका 20 प्रतिशत कम हो जाती है उन लोगों की तुलना में जिनकी जीवनशैली निष्क्रिय । इस अध्ययन को पूरा होने में करीब 13 साल का वक्त लगा। स्टडी के ऑथर ने अपने निष्कर्ष में लिखा कि वॉकिंग यानी पैदल चलना अपने आप में एक परफेक्ट एक्सर्साइज है, क्योंकि यह एक सिंपल एक्शन है, जिसके लिए किसी तरह के उपकरण की जरूरत नहीं है। इसे हर उम्र का व्यक्ति कर सकता है।