कड़ाके की सर्दी से ठिठुरा दिल्ली-एनसीआर, बारिश की संभावना, पश्चिम यूपी में स्कूल बंद

0
104

नई दिल्ली (ईएमएस)। उत्तर भारत में चल रही ठंडी हवाओं के कारण लोगों का जमजीवन अस्त व्यस्त करके रख दिया है। शनिवार व रविवार को हुई हल्की बारिश के बाद ठिठुरन ने दिल्लीवासियों को कंपा दिया है। हालांकि सोमवार को दिन में धूप खिलने से ठिठुरन से कुछ राहत रही , लेकिन सुबह ठंड ने सितम ढाया। ठंड के साथ ही अब अगले तीन दिनों तक कोहरा भी सताएगा। शनिवार को दोबारा बारिश होने की संभावना भी जताई जा रही है। स्काईमेट के अनुसार, हवा की दिशा अब फिर से उत्तर की तरफ हो गई है। इससे ठंड भी बढ़ने लगी है। आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में और गिरावट आएगी। हालांकि, शीतलहर की वापसी के संकेत नहीं हैं। आसमान साफ रहेगा लेकिन अगले 48 घंटों तक कोहरे से राहत नहीं मिलेगी। वहीं शुक्रवार को एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है, जिसके प्रभाव से शनिवार को बारिश होने की संभावना भी बनी हुई है।
कड़ाके की ठंड को देखते हुए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद, शामली, बुलंदशहर, हापुड़, बिजनौर में स्कूल 12 जनवरी तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। सिर्फ गौतमबुद्धनगर जिला ही ऐसा है, जहां स्कूल खुले हैं। शीतलहर व कोहरे से रेल यातायात पर खासा प्रभाव पड़ा है। ज्यादातर लम्बी दूरी की ट्रेनें घंटो लेटलतीफ चल रही हैं। जिससे यात्रियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ट्रेन के इंतजार में रेलवे स्टेशन पर बैठे यात्री ठंड से कंपकपाते नजर आ रहे हैं। स्टेशन में यात्रियों को ठंड से बचाने के लिए कोई बंदोबस्त नहीं किए गए हैं। समाचार के मुताबिक, दिल्ली आने-जाने वाली 14 ट्रेनें कोहरे के चलते देरी से चल रही हैं। इससे पहले सोमवार को अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस अधिक 20.1 जबकि न्यूनतम सामान्य स्तर पर 7.1 दर्ज किया गया। नमी का स्तर 66 से 100 फीसद दर्ज किया गया। कई क्षेत्रों में घना कोहरा छाया रहा। एयरपोर्ट के आसपास दृश्यता शून्य तक पहुंच गई। फिलहाल, कोहरे से राहत मिलने की संभावना नहीं है। मौसम विभाग के अनुसार, कोहरे का असर सुबह करीब 10 से 11 बजे तक जनजीवन को प्रभावित कर सकता है।
इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय (आईजीआई) हवाईअड्डा पर सोमवार को कोहरे के कारण दृश्यता सामान्य से कम तो रही लेकिन इसका विमानों की उड़ान पर अधिक असर नहीं पड़ा। वहीं, अन्य शहरों, खासकर दक्षिण और पहाड़ पर मौसम खराब रहने के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से उन गंतव्यों तक जाने और वहां से आने वाले विमान प्रभावित हुए। करीब 100 से ज्यादा उड़ानों में देरी हुई, जिसके कारण एयरपोर्ट पर हवाई यात्रियों को परेशानी हुई।
एयरपोर्ट मौसम विभाग के मुताबिक, आईजीआई एयरपोर्ट पर सोमवार की सुबह सामान्य दृश्यता का स्तर 50 मीटर था, जबकि रनवे पर कुछ स्थान पर दृश्यता 75 से 150 मीटर तक बनी हुई थी। एयरपोर्ट अधिकारियों के मुताबिक, इस दौरान रनवे पर तकनीक की मदद से विमानों का नियमित संचालन किया जाता रहा। लिहाजा, दिल्ली के मौसम के कारण न किसी विमान को रद्द किया गया और न ही किसी को डायवर्ट करना पड़ा। हालांकि अन्य शहरों में खराब मौसम का असर पड़ा। दूसरे एयरपोर्टं पर खराब मौसम के कारण यहां 100 से ज्यादा उड़ानों में देर हुईं। सबसे ज्यादा प्रभावित बेंगलुरु, मुंबई, लेह और जम्मू की उड़ानें हुईं। वहां से आने और जाने वाले ज्यादातर विमान आधा घंटा से दो घंटे तक की देरी से उड़े व उतरे। मुंबई, नागपुर, अहमदाबाद व चेन्नई की उड़ानें भी प्रभावित हुईं। वहीं, बैंकाक, दोहा और दुबई से भी विमान काफी देर से दिल्ली आए।