Current Crime
ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

डीएम गाजियाबाद ने तोड़े कोविड सर्वेक्षण के रिकॉर्ड

साढ़े 3 लाख से ज्यादा लोगों का हुआ सर्वे और मिले 50 कोरोना पॉजिटिव
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कोरोना महामारी को लेकर जिला प्रशासन पूरी तरह सजग है और पहली बार ऐसा हुआ जब डीएम अजय शंकर पांडेय ने विशेष कोरोना सर्वे के आदेश दिए। जिला प्रशासन का मानना था कि कोरोना तभी घातक है जब लापरवाही बरती जाए। इसलिए बचाव ही इसकी रोकथाम का सबसे प्रभावी उपाय है।
कोरोना को लेकर किस प्रकार की जागरूकता रखी जाए और क्या-क्या सावधानियां बरती जाए इसको लेकर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुरूप जिला प्रशासन द्वारा विशेष अभियान चलाया गया। कोरोना संक्रमण से जनसामान्य को जागरूक करने और संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण रखे जाने के उद्देश्य से गाजियाबाद में दो जुलाई से 12 जुलाई तक विशेष सर्विलांस अभियान संचालित किया गया।
खास बात यह है कि डीएम अजय शंकर पांडेय ने बेहद कम समय में इस अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य से तुरंत ही संबंधित अधिकारियों की एक आवश्यक बैठक बुलाई थी और सभी विभागों को समुचित निर्देश दिए थे, ताकि शासन के इस प्राथमिकता अभियान को सफल बनाया जा सके। खुद डीएम अजय शंकर पांडेय ने रोजाना इस अभियान की समीक्षा की और पिछले दिवस का रिव्यु और अगले दिवस के संबंध में आवश्यक निर्देश देते थे।
देहात से लेकर शहर तक टीमों ने किया डोर-टू-डोर सर्वे
जिले में चले विशेष सर्विलांस अभियान के अंतर्गत 2029 टीमें बनाई गई थीं। प्रत्येक टीम में दो मेडिकल स्टाफ को रखा गया। सभी टीमों को 550 थर्मामीटर और 550 आॅक्सीमीटर दिए गए। सभी टीमों ने डोर-टू-डोर जाकर और कंटेंमेंट जोन में जाकर आईएलआई और सारी के रोगियों का गहन सर्वेक्षण किया। गाजियाबाद शहर में 1263 टीमें लगाई गर्इं और देहात क्षेत्र में 766 टीमें लगाई गर्इं डीएम के निर्देशों पर 50 शहरी और समस्त ब्लॉकों की सीएचसी पर स्वास्थ्य इकाइयों ने काम शुरू किया। सर्वेक्षण अभियान में आईएलआई और सारी के लक्षण वाले लोगों का प्रतिशत बहुत कम था। इन सभी का टैस्ट कराया गया और इनमें से पॉजिटिव आने वाले लोगों का प्रतिशत कम रहा और लगभग 50 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए जिन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोविड अस्पतालों में भर्ती कराया गया। इन सभी लोगों का उपचार चल रहा है। दस दिन तक चले इस अभियान में 1201228 घरों में सर्वे किया गया और इस सर्वे में 3830186 लोगों को शामिल किया गया। 1477 मरीजों की जांच की गई। इस काम में 19530 टीमों ने हिस्सा लिया।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: