Current Crime
दिल्ली दिल्ली एन.सी.आर

दिल्ली-एनसीआर की 113 औद्योगिक इकाइयां होंगी बंद

नई दिल्ली (ईएमएस)। राजधानी दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति अभी भी बेहद खराब बनी हुई है। प्रदूषित हवा से राहत नहीं मिल पाई। सुबह घने स्मॉग की चादर छाई रही जबकि पूरे दिन दिल्लीवासियों ने सड़कों पर प्रदूषण का आसर महसूस किया। दिल्ली के विभिन्न इलाकों में स्थापित 29 मॉनिटरिंग स्टेशन पर वायु की गुणवत्ता बेहद खराब रही, जबकि चार स्टेशनों पर हवा की गुणवत्ता खतरनाक स्तर पर है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, वायु गुणवत्ता सूचकांक 367 के स्तर पर रहा, लेकिन पीएम 2.5 और पीएम 10 में होने वाली बढ़ोतरी से आम लोगों की सेहत पर प्रदूषण का खतरा और भी गहराने लगा है। निर्माण गतिविधियां, वाहनों से होने वाले प्रदूषण और पंजाब-हरियाणा में पराली जलाने से प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी हो रही है। दस जगहों पर इसका अधिक असर देखा गया है। पीएम 2.5 इस सीजन का सबसे सर्वाधिक 217 पर पहुंच गया। पीएम 2.5 सेहत के लिहाज से पीएम 10 की तुलना में कई गुणा खतरनाक है। सोमवार को एनसीआर में प्रदूषण ज्यादा रहा। हवा शांत होने की वजह से धूल के कण और धुआं भी कई जगहों पर स्थिर हो जाने की वजह से धुंध और धुएं की स्थिति कभी-कभी बन रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान पराली जलाने में हुई भारी बढ़ोतरी के कारण वायु प्रदूषण का स्तर और ज्यादा गंभीर हो गया है। अगले 2 दिन में हालात और बिगड़ सकते हैं और जल्द ऐहतियात नहीं बरते गए, तो जल्द ही प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच जाएगा। त्योहार के बाद दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में कई गुना बढ़ोतरी की आशंका के मद्देनजर बोर्ड, एजेंसी और निकायों व संस्थाओं ने दिल्ली वासियों को ऐहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: