कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / विदेश / दक्षिण अफ्रीका में सामाजिक सद्भभाव के सालाना जलसे के रूप में मनाई जाती है दीपावली

दक्षिण अफ्रीका में सामाजिक सद्भभाव के सालाना जलसे के रूप में मनाई जाती है दीपावली

जोहानिसबर्ग (ईएमएस)। डरबन में पिछले 20 सालों से दीपावली मानाई जाती है। इस त्यौहार को अक्षिण अफ्रीका में समाजिक सद्भाव के सालाना त्योहार के रूप में मनाया जाता है। दक्षिण अफ्रीका का होनानिसबर्ग शहर पहले स्थानीय जुलु समुदाय और भारतीय समुदाय के बीच तनाव टकराव से जूझ रहा था। दक्षिण अफ्रीका के हिंदू महासभा के अध्यक्ष अश्विन त्रिकमजी ने बताया कि यह जमीनी स्तर पर सामाजिक समरसता का कार्यक्रम है। आयोजकों का कहना है कि कार्यक्रम की आधिकारिक शुरुआत शनिवार की शाम हुई। उन्होंने बताया कि इस दो दिवसीय संस्कृति, रंग और व्यंजनों के उत्सव का लक्ष्य न केवल यहां के हिंदू समुदाय को आकर्षित करना है, बल्कि इसका लक्ष्य दक्षिण अफ्रीका के सभी समुदायों को अपनी तरफ आकर्षित करना भी है।
त्रिकमजी ने याद करते हुए बताया कि देश के पहले लोकतांत्रिक राष्ट्रपति के रूप में नेल्सन मंडेला का निर्वाचन होने के बाद जब प्रकाश का यह त्योहार पहली बार मनाया गया था तो इसको लेकर कई तरह के विवाद पैदा हुए थे, क्योंकि उस समय देश का समाज नस्लवाद के आधार पर विभाजित था। उन्होंने बताया हमारे अपने समुदाय के लोगों के साथ ही अन्य लोगों ने हमें कहा था कि यह दीवाली का उत्सव का कार्यक्रम संभव नहीं हो पाएगा। लेकिन हमने इसको एक चुनौती की तरह लिया। लगातार इस कार्यक्रम में हजारों लोग आते रहे और हमें बड़े आयोजन स्थल की तलाश रही और हम अब इस मौजूदा आयोजन स्थल पर पूरी तरह स्थापित हो चुके हैं। यह स्थान औपचारिक तौर पर बंद होने तक डरबन का अकेला सिनेमाहॉल था।

Check Also

अफगानिस्तान के वित्त मंत्री ने कहा भारत हमेशा से साझेदार रहा है और रहेगा

वाशिंगटन (ईएमएस)। भारत को लंबे समय से अफगानिस्तान का साझेदार करार देते हुए वहां के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *