Current Crime
राज्य

दो माह के भीतर ही हुई पति-पत्नी की मौत

उमरानाला नगर के प्रसिद्ध समोसे कचोरी दुकान के संचालक कि पत्नी एवं स्वयं की हुई हार्ट अटैक से मौत
उमरानाला नगर के भावरासे परिवार में एक माह के भीतर में गई 2 लोगों की जान
दो बच्चों का सहारा छीना
उमरानाला (ईएमएस)। उमरानाला नगर के भावरासे परिवार पर कुदरत का कहर ऐसा बरसा की एक के बाद एक परिवार के दोनों मुखिया की मौत 2 माह के भीतर में ही हो गई एवं इनके दो बच्चे माता पिता के लिए तरस गए ,कुदरत का ऐसा ढाया की इस भावरासे परिवार के दोनों मुखियाओं पति-पत्नी की अचानक हार्ट अटैक से मौत हो गई जिससे इनके दो बच्चे घर बेघर हो गए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार उमरानाला नगर के बस स्टैंड क्षेत्र में पिछले लगभग 40 वर्षों से प्रसिद्ध समोसे कचोरी के दुकान संचालक दुर्गा प्रसाद भावरासे की पत्नी रेखा भावरासे का निधन 6 जून को अचानक दिल का दौरा पड़ने के बाद हो गया इसके पश्चात पूरा परिवार शोक की लहर में हुआ था वही दुर्गा प्रसाद अपनी पत्नी की मौत से उबरे नहीं की 23 अगस्त को अचानक दुर्गा प्रसाद कि सुबह 9:00 बजे अचानक तबीयत बिगड़ी जिन्हें स्थानीय डॉक्टरों के पास दिखाया इसके पश्चात जिला चिकित्सालय में जा रहे थे तभी रास्ते में इन्होंने भी दम तोड़ दिया इसके पश्चात इनका अंतिम संस्कार 23 अगस्त को देर रात्रि स्थानीय मोक्षधाम में किया गया जहां भारी संख्या में उपस्थित जन समुदाय ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।
इस तरह एक ही परिवार के एक के बाद एक दोनों मुखियाओं की मौत से उमरानाला नगर एवं मोहखेड़ सहित आसपास के उनके परिवार एवं परिजनों तथा नगरवासी इनकी मौत से सहम गए हैं क्योंकि एक के बाद एक ही परिवार के दोनों मुखियाओं की मौत लोगों में काफी चर्चा का विषय बनी हुई है एवं लोगों ने इनके परिवार के लोगों को दुख की इस घड़ी से लड़ने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की एवं इनके दो बच्चे जो कि एक बेटा शिवम भावरासे जो कि इंदौर में बढ़ई कर रहा था एवं पुत्री आकांक्षा भावना से कक्षा 12वीं की छात्रा है इनके परिवार में केवल यह दो ही सदस्य रह गए हैं वही नगर वासियों द्वारा इस दुखद घटना से नगर में शोक की लहर छाई हुई है।
भाई और बहन ही बच्चे परिवार में केवल
उमरानाला नगर के बस स्टैंड क्षेत्र के प्रसिद्ध समोसे कचोरी के दुकान संचालक दुर्गा प्रसाद भावरासे एवं उनकी पत्नी रेखा भावरासे की मौत 2 माह के अंतराल में हो गई इस परिवार पर कुदरत का कहर इस तरह बरसा कि परिवार के दोनों भाई बहन के सिर से माता पिता का सहारा हटा लिया दुखद घटना से पूरा उमरानाला नगर सहमा हुआ है
मामा तथा मामी का सहारा ही बचा है इन छोटे बच्चों को
हसने खेलने कूदने तथा पढ़ने की उम्र एवं कुछ सीखने तथा मां-बाप को के अत्यधिक सहारे की जिस उम्र में इन बच्चों को सबसे ज्यादा आवश्यकता थी तभी कुदरत की कहर नहीं इन बच्चों के सहारा उनके माता पिता को छीन लिया जिससे यह नादान बच्चे मां बाप के आशीर्वाद तथा उनकी डांट एवं उनकी दी हुई सीख के लिए केवल तरसने को मजबूर रह गए।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: