गुजरात पर चक्रवाती खतरा, बंदरगाहों पर लगे दो नंबर के सिग्नल

0
140

अहमदाबाद (ईएमएस)| आखिरकार वायु चक्रवात सक्रिय हो गया है जो आगामी 24 घंटों में गुजरात से टकरा सकता है| फिलहाल यह चक्रवात सौराष्ट्र के वेरावल से केवल 740 किलोमीटर दूर है| राजस्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकजकुमार ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है| चक्रवात की संभावना के चलते एनडीआरएफ की टीमें सौराष्ट, कच्छ और दक्षिण गुजरात रवाना की गई हैं| महाराष्ट्र की चार एनडीआरएफ टीमों में वडोदरा में स्टेन्ड बाय रखा गया है| गुजरात में एनडीआरएफ की कुल 15 टीमें तैनात की गई हैं| चक्रवात के चलते एनडीआरएफ की टीमें गांधीनगर से रवाना कर दी गई हैं, जो कल्पना से परे साधन सामग्री साथ में ले गई हैं| राज्य मौसम विभाग के निदेशक जयंत सरकार के मुताबिक अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण 13 और 14 जून को सौराष्ट और कच्छ में भारी से अतिभारी बारिश हो सकती है| गर्म समुद्री हवाओं की वजह से कम दबाव वाले क्षेत्र ने सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया और मंगलवार सुबह तक चक्रवात में तबदील हो गया है। इस चक्रवात का नाम ‘वायु’ रखा गया है, जो की भारत द्वारा दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार तक ‘वायु’ तूफान अपने चरम पर होगा और इसकी रफ्तार 135 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की होगी। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक केरल तट, लक्षद्वीप और उससे लगे दक्षिणपूर्व अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी गई है। राज्य के कई बंदरगाहों पर दो नंबर के सिग्नन लगाए गए हैं| तटीय इलाकों के गांवों को सतर्क कर दिया गया है| मोरबी के नवलखी तटीय इलाके के 39 गांवों से 5900 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है| चक्रवाती खतरे के चलते सभी अधिकारी और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं और मुख्यालय नहीं छोड़ने का आदेश दिया गया है| राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने परिपत्र जारी कर आवश्यक दवाईयों को पर्याप्त स्टोक रखने और अस्पताल में पूरी व्यवस्था करने का आदेश दिया गया है|