कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / अन्य ख़बरें / रीढ़ की चोट के शिकार की उम्मीद बने साइबॉर्ग पैर

रीढ़ की चोट के शिकार की उम्मीद बने साइबॉर्ग पैर

वाशिंगटन (ईएमएस)। अमेरिकी विशेषज्ञों ने एक ऐसा रोबोटिक सूट बनाने का दावा किया है जिसकी मदद से रीढ़ की हड्डी में चोट के शिकार मरीज फिर से अपने पैरों पर खड़े हो सकेंगे। मरीज इन्हें अपने दिमाग से संचालित कर सकेंगे। साइबॉर्ग सूट का परीक्षण फ्लोरिडा के जैकसनविले में ब्रुक्स साइबरनेटिक ट्रीटमेंट सेंटर में किया जा रहा है। यह कमर के नीचे पहनने वाला सूट है और यह चलने में असमर्थ लोगों को फिर से चलने में मदद करेगा। जापानी कंपनी एचएएल रोबोट सूट का निर्माण 2009 से कर रही है और हाल ही में इसे फूड एंड ड्रग एसोसिएशन से मंजूरी मिली है। रीढ़ की हड्डी में चोट लगने से चलने में असमर्थ लोग जब इस पहनेंगे तो यह सूट उनके बायो इलेक्ट्रिक सिग्नल की मदद से हरकत करेगा। उनकी कोशिकाएं अंग या सेल प्रणालि सूट को संदेश भेजेगी, जो मस्तिष्क से मांसपेशियों तक पहुंचते हैं। एचएएल में लगे सेंसर इन्हें ग्रहण कर चलने में सहायता प्रदान करेंगे। रोबोट सूट पहनने वालों को बिना किसी मदद के चलने, खड़े होने और बैठने में राहत होगी। इसमें एक रिमोट भी लगा है, जिससे पहनने वाला शख्स रोबो सूट को शुरू या बंद कर सकता है। वे इसकी सेटिंग में बदलाव भी कर सकते हैं।

Check Also

श्री रामायण एक्सप्रेस सफदरजंग से रवाना, पीयूष गोयल ने दिखाई हरी झंडी

नई दिल्ली (ईएमएस)। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने श्री रामायण एक्सप्रेस सफदरजंग स्टेशन से हरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *