Current Crime
उत्तर प्रदेश ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर देश विचार

उठते सवालों का करंट (22 अप्रैल)

  • क्यों कहा कहने वाले ने की राज्य मंत्री अतुल गर्ग पर अपने खास लोगों को राशन देने का आरोप लगाने वाले बसपा के जिला अध्यक्ष कुलदीप कुमार ओके की वर्किंग का नहीं पता चल रहा है वर्तमान में कोई पता? क्यों कहा कहने वाले ने की एहसास करा रहे हैं वो ऐसा जैसे होगा गए हैं लापता? क्यों कहा कहने वाले ने कि क्या पता हमें ही नजर नहीं वह क्या कर रहे हैं? शायद यही है हमारी खता?
  • क्या लोनी वाले मावी जी ने तोड़ दी बहुत दिनों बाद चुप्पी? क्या कहा कि अब है जिला पंचायत चुनाव में बहुत दिन? अब जो कुछ कहूंगा दिल खोलकर कहूंगा? क्यों कहा मावी जी ने की कोरोना वायरस के चलते बढ़ सकती है चुनाव की तारीख? अब हम जो कहना चाहते हैं कहेंगे क्योंकि आजकल हम हैं फारिक?
  • क्यों कहा कहने वाले ने कि लोनी से विधायक नंदकिशोर गुर्जर के प्रतिनिधि पंडित ललित शर्मा जिस तरह से रात दिन राशन उपलब्ध कराकर कर रहे हैं गरीब लोगों की सेवा? जा रहे हैं जनता के बीच? उन्होंने यह नेक काम करके घर में बैठकर बड़ी बड़ी राजनीतिक बातें करने वालों के सामने दी है लंबी लाइन खींच? क्यों कहा कहने वाले ने कि विपत्ति की घड़ी में ही पता चलता है? कौन है अपना नेता और कौन है वोट वाली राजनीति के करीब?
  • क्यों कहा कहने वाले ने कि अगर वेस्टर्न वाला पदाधिकारी तुम पर आक्रमक हो रहा हो तो उसे विषय से भटकाने के लिए दूसरे वेस्टर्न वाले पदाधिकारी का जिक्र छेड़ दो? क्यों कहा कहने वाले ने कि दूसरे वेस्टर्न वाले का जिक्र आते ही आक्रामक हुए वेस्टर्न वाले पुराना वाला विषय भूल जाएंगे? बस इतना करने भर से आप बच जाएंगे? आक्रामक वेस्टर्न वाले के प्रश्नों से साफ निकल जाएंगे?
  • क्यों कहा कहने वाले ने कि विजयनगर वाली राजनीति में मचा हुआ है इस वक्त ज्यादा ही धमाल? जो खींचकर चल रहे हैं मंत्री जी के खिलाफ लंबी वाली लाइन? वह दिखा रहे हैं नया ही कमाल? क्यों कहा कहने वाले ने कि बल वाले राम ने क्षेत्रीय मंत्री मयंक गोयल की जिंदाबाद कहकर बता दिया है आने वाली राजनीति का अभी से अंजाम?
  • क्या जनरल किसी ने दे दिया किसी को संदेश? ना जाने क्यों वह पूरे मान से करता है हमारे साथ कंपटीशन? जबकि हमारा नहीं है उससे कोई द्वेष? क्यों कहा कहने वाले ने कि उसका ना साहिबाबाद से टिकट होना है ना ही होनी है और कोई बड़ी बात? खामाखां भाई ने लाइन खींच रखी है? जबकि सब जानते हैं एक दूसरे के हालात? खुदा करे उसका खैर ना जाने क्यों रखता है वह हमसे बैर?
  • क्यों कहा कहने वाले ने कि यूनियन वाले सिस्टम से गया था आॅरेंज कमांडर का आलाकमान के पास नाम? क्यों कहा कहने वाले ने कि हमें पता है यूनियन ने इस नाम के अलावा नहीं भेजा था किसी और का नाम? क्यों कहा कहने वाले ने कि भगवा वाले सिस्टम से तो कमांडर का नाम था बिल्कुल गायब? क्यों कहा कहने वाले ने कि गहराई में जाकर जांच करो, अब जो निर्णय हो चुका है स्वीकारो और लंबी सांस भरो?
  • क्या लेने वाले ने ले ली सपा के एक अध्यक्ष की कबूतर वाली फोटो को देखकर चुटकी? क्या कहा कि अध्यक्ष जी कबूतर उड़ाने से काम नहीं चलेगा? जनता के बीच जाओ, सेवा करो तभी सम्मान बढ़ेगा? क्या कबूतर के बहाने अध्यक्ष जी प्रकट कर रहे थे अपने दिल के जज्बात? मगर उन्हें नहीं पता था कि इस तरह का कमेंट पहुंचा सकता है उनके पोस्ट को आघात?
  • क्यों कहा कहने वाले ने की सोशल डिस्टेंसिंग ने कुछ ज्यादा ही कर दी है मजबूरी? जो कभी छोड़ते नहीं थे चेंबर पर एक दूसरे का साथ? उन दोनों मोहन के बीच में दिखाई दे रही है अब बहुत ज्यादा दूरी? क्यों कहा कहने वाले ने कि चलो माना कि नहीं कर सकते दोनों आपस में मुलाकात? मगर सोशल मीडिया पर पेश तो कर सकते हैं एक दूसरे के लिए जज्बात?
  • क्यों कहा कहने वाले ने कि ऊपर वाले कुछ तो रहम कांग्रेस पार्षद दल के नेता जाकिर अली सैफी पर करना? क्यों कहा कहने वाले ने कि ना जाने कैसे काट रहे होंगे वह अपने दिन? क्योंकि नहीं दिया है उन्होंने बहुत दिनों से धरना? क्यों कहा कहने वाले ने कि ना जाने कैसे कट रहे होंगे जाकिर भाई के दिन? कहां रहते हैं वह धरने के बिन?

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: