Current Crime
उत्तर प्रदेश ग़ाजियाबाद दिल्ली दिल्ली एन.सी.आर देश राज्य

उठते सवालों का करंट (17-05-20)

क्यों कहा कहने वाले ने कि शनिवार को असरदार था भाजपा के अवतार भाटी का किरदार? क्यों कहा कहने वाले ने कि यूपी गेट पर जब भूखे प्यासे बैठे थे सैकड़ों प्रवासी? तब अवतार भाटी ने उनको भोजन की सुविधा उपलब्ध कराकर पेश किया असली किरदार? क्यों कहा कहने वाले ने की अवतार भाटी की यह मुहिम लॉकडाउन लगने से जारी है लगातार?

क्यों कहा कहने वाले ने की वेस्टर्न वाले एक पदाधिकारी और एक पूर्व अध्यक्ष इस वक्त भगवा कमांडर के खिलाफ बना रहे हैं माहौल? वह कई जनप्रतिनिधियों को मिलकर दे चुके हैं संदेश कि क्या जनरली साहब को छोड़कर उन्हें कोई और नहीं दिखाई देता है? क्यों कहा कहने वाले ने कि अगर हम कह रहे हैं बात फेक? तो आप चेक कर सकते हो उनके फेसबुक पर डाले गए फोटो के अपडेट? क्या दोनों पदाधिकारी अलग-अलग मिलकर दे रहे हैं सभी जनप्रतिनिधियों में यह संदेश?

क्यों कहा कहने वाले ने कि पोएट वाली सिटी में राशन वाली व्यवस्था देख रहे युवा वैश्य नेता के पास जब पहुंचा एक रिक्शे वाला? राशन लेने के लिए तब क्या युवा वैश्य नेता ने उसे दिखाया जिला प्रशासन वालों का रास्ता? क्या रिक्शावाला था बहुत ही जागरूक? उसने कहा आप बैठे हो इतनी सेंसेटिव जगह रजनीगंधा से तोड़ो अपना वास्ता? यहां पर यह सब करना नहीं है ठीक? क्योंकि मारते तो होंगे ही आप दाएं बाएं पीक?

क्यों कहा कहने वाले ने कि नामित पार्षद का खाकीधारी द्वारा गिरेबान पकड़ने वाले प्रकरण ने जैसे ही पकड़ा तूल? जब यह मामला पहुंचा भगवा कमांडर के पास? यह बात सुनकर उनके दिल पर चल गए शूल? क्यों कहा कहने वाले ने कि उन्होंने की पुलिस के बड़े कमांडर से बात? कहा कि जो कुछ हुआ है वह ठीक नहीं है साहब? सुना है भगवा कमांडर की बात ने दिखाया अपना असर? जिन्होंने गिरेबान में हाथ डाला था उन्हें कर दिया गया है इधर से उधर?

क्यों कहा कहने वाले ने कि एक विधानसभा में काफी तेजी से बढ़ रहा है दावेदारी का किस्सा? क्यों कहा कहने वाले ने कि दो वैश्य नेता तो हो चुके हैं ओवरऐज? नई ऐज वाले के पास आना चाहिए विधानसभा का हिस्सा? क्यों कहा कहने वाले ने कि काफी वैश्य चेहरे मिलकर कर रहे हैं एक वैश्य चेहरे के लिए तैयारी? योजना बन रही है कि गर्ग साहब के घर से ना आ जाए कोई दावेदारी?

क्यों कहा कहने वाले ने कि गर्ग साहब को लेकर हो गए भाजपा के संत भी क्रांतिकारी? उन्होंने भी सोशल मीडिया पर पोस्ट डाल कर कराया गाजियाबाद के गुड़गांव नहीं बनने का एहसास? क्या कहा कि गुडगांव तो नहीं बना गाजियाबाद? मगर हो गया है हरियाणा? क्या जैसे ही मिस्टर संत ने डाला यह संदेश? वैसे ही बलराम ने भी दिया इनको अपना समर्थन वाला आदेश?

क्यों कहा कहने वाले ने कि पुलिसिया उत्पीड़न के शिकार हुए नामित पार्षद को मिला जब इंसाफ? तो उनकी टीम थी बेहद नाराज? क्यों कहा कहने वाले ने कि जब हो गई पुलिस वालों का पर कार्रवाई? तब खुशी प्रकट करने के लिए सभी साथियों में बजी जश्न की शहनाई? कहने वाले ने कहा कि इस जश्न की आवाज हमें बहुत दूर-दूर तक दी सुनाई?

क्यों कहा कहने वाले ने कि जहां भगवा कमांडर फीस माफी को लेकर कर चुके हैं अपनी तरफ से कई गुहार? वहीं राज वाले दीप की सोशल मीडिया पर थी कुछ और ही पुकार? क्यों कहा कहने वाले ने कि त्यागी जी ने डाला अपनी पोस्ट पर गजब संदेश? लिखा स्कूल वालों की तनख्वाह मेंटेनेंस का लिया जाए सरकार से हर्जाना? फिर उचित होगा फीस माफी की गुहार लगाना?

क्यों कहा कहने वाले ने कि भगवा संगठन में चुनाव वाली जिम्मेदारी देखने वाले नेता जब करते हैं अधिकारियों से बात? तब बदल जाता है उनका बात करने का अंदाज? जब उधर से आती है हेलो की आवाज? इधर से यह कहते हैं हम इलेक्शन कमीशन से बोल रहे हैं जनाब? क्यों कहा कहने वाले ने कि काम कराने का यह भी है गजब का अंदाज?

क्यों कहा कहने वाले ने कि जब से किसी ने भगवा गौतम को दिखा दिया है आने वाले समय में मेयर सीट आरक्षित होने का सपना? तब से उन्होंने भी बदल दिया है अपना अंदाज? क्यों कहा कहने वाले ने कि पहले लिखते थे वह अपने नाम के आगे सिंपली गौतम? अब गौतम के साथ भी जोड़ दिया गया एक और कास्ट? क्यों कहा कहने वाले ने कि इलेक्शन आने पर नाम को लेकर ना हो कन्फ्यूजन? इसलिए शुरू किया है उन्होंने यह नया फ्यूजन?

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: