Home / अन्य ख़बरें / सीआरपीएफ के जवान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

सीआरपीएफ के जवान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

ॅ सैन्य सम्मान के साथ निकाली अंतिम यात्रा
ॅ परिजन हत्या बता रहे हैं , रो रोकर है बुरा हाल
मुरादनगर (करंट क्राइम)। सीआरपीएफ के जवान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। सीआरपीएफ के अधिकारियों का कहना है कि जम्मू कश्मीर के अन्तनाग में तैनात जवान ने बुधवार दोपहर ढाई बजे गोली मारकर आत्महत्या की है,जबकि परिजन इसे हत्या बता रहे है। गुुरुवार शाम को जवान का शव गांव काकड़ा पहुंचा तो कोहराम मच गया। परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर एक ज्ञापन उपजिलाधिकारी को दिया है। पत्नी,बच्चों व अन्य परिजनों का रो रोकर बुरा हॉल है। गांव काकड़ा निवासी बालिस्टर त्यागी (45 वर्ष) पुत्र भीम सिंह त्यागी ने सीआरपीएफ में हवलदार पद पर तैनात है। वह अपनी पत्नी नीरज व पुत्री महिमा (16 वर्ष), पुत्र निशांत (11 वर्ष ) के साथ दिल्ली के नजफगढ स्थित सैनिक एन्कलेव में रहते थे। इन दिनों बालिस्टर त्यागी की डयूटी जम्मू कश्मीर में अन्तनाग स्थित सीआरपीएफ के बेस कमान में चल रही है। गत पांच जनवरी को छुट्टी समाप्त कर बालिस्टर त्यागी अपनी डयूटी पर अन्तनाग गए थे। भाई राजेन्द्र त्यागी ने बताया कि बुधवार शाम साढे चार बजे अन्तनाग स्थित सीआरपीएफ हेड र्क्वाटर से फोन आया कि बालिस्टर त्यागी ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। इसके बाद फोन अचानक कट गया। इसके बाद काफी प्रयास करने के बाद फोन नहीं मिला। सुबह सूचना मिली कि गुरुवार शाम तक शव गांव काकड़ा पहुंच जाएगा। गुरुवार शाम साढे पांच बजे बालिस्टर त्यागी का शव गांव काकड़ा पहुंचा। सैन्य सम्मान के साथ अंतिम यात्रा निकाली गई। पुत्र ने चिता को मुखाविन दी। इस मौके पर विधायक अजीतपाल त्यागी ,किठौर के विधायक सत्यवीर त्यागी उपजिलाधिकारी ,सीओ मोदीनगर राजकुमार सिह,सीआरपीएफ के सीओ आबिद हसन,पूर्व एडीजी सीआरपीएफ श्रीकांत त्यागी सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे। भाई राजेन्द्र त्यागी ने बताया कि सीआरआरएफ के अधिकारियों ने कहना है कि ढाई बजे के आसपास बालिस्टर ने गोली मारकर आत्महत्या की है,जबकि हमे इसकी सूचना साढे चार बजे फोन दी है। उन्होने बताया कि सवा दो बजे के आसपास बालिस्टर ने मेरे से फोन पर बात की थी,उस समय वह सामान्य रुप से बात कर रहा था। राजेन्द्र त्यागी ने बताया कि सुबह बालिस्टर त्यागी ने सुबह अपने पुत्र से फोन पर बात की थी। इसके अलावा दो बजकर बीस मिनट पर अपनी पुत्री के मोबाइल पर फोन किया था,लेकिन वह रिसीव नहीं कर सकी। उन्होने बताया कि परिवार में सब ठीक चला रहा था। वह आत्महत्या नहीं कर सकता है। भाई राजेन्द्र त्यागी ने बताया कि चार माह बाद बालिस्टर त्यागी रिटायर होने वाला था। वह मुरादनगर में मकान बनाने के लिए प्लॉट की तलाश कर रहा था। गत चार जनवरी को वह छुट्ी बिताकर वापस गया था। उन्होने बताया कि अक्टूबार माह में बालिस्टर का एक जवान से विवाद हो गया था। उस समय जवान ने उसे जान से मारने की धमकी दी थी। शव के साथ अन्तनाग से आए सीआरपीएफ के जवान अमित कुमार ने बताया कि दोपहर दो बजकर चालीस मिनट के आसपास बालिस्टर त्यागी काफी देर से अपने कैंप में जमीन पर आराम से बैठा था। अन्य साथी जवानों द्वारा उसे टोकने पर उसने आने से मना कर दिया था। अचानक गोली की आवाज आई तो सभी कैंप की ओर भागे तो देखा कि बालिस्टर लहुलुहान नीचे जमीन पर पड़ा था। उसने अपनी नाभी में गोली मारकर आत्महत्या की थी। शव के पास से कोई सुसाईट नोट नहीं मिला है।
मुख्यमंत्री राहत कोष से जवान के परिवार को मदद दिलाने का प्रयास
उपजिलाधिकारी पवन अग्रवाल ने बताया कि जिलाधिकारी के माध्यम से पत्र लिखाकर मुख्यमंत्री राहत कोष से जवान के परिवार को मदद दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

Check Also

बढ़ते महिलाओं पर अपराधों के खिलाफ किया प्रदर्शन

Share this on WhatsAppगाजियाबाद (करंट क्राइम)। महिलाओं पर बढ़ते अत्याचारों के खिलाफ महिला कांग्रेस महानगर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *