कांग्रेस के भ्रष्ट कारनामे किसी से छिपे नहीं: पीएम मोदी

0
70

शिमला( ईएमएस)। वरिष्ठ भाजपा नेता प्रधानमंत्री नरेन्दर मोदी ने सोमवार को सोलन में भाजपा की चुनावी सभा को संबोधित करते हुये कांग्रेस पर सैम पित्रोदा की टिपणी हुआ तो हुआ पर मोदी ने कांग्रेस पर तीखा हमला किया। व कहा कि कांग्रेस की छवि देश में वोट कटवा पार्टी की बनकर रह गई है। ऐसा मोदी नहीं कह रहा है बल्कि कांग्रेस के लोग ही कह रहे हैं। इसका कारण कांग्रेस का अंहकार है। कांग्रेस का अंहकार सातवें आसमान पर है।
मोदी ने कहा कि हालात ऐसे हो गये हैं कि, देश में नामदार परिवार जो भी कहे वो ही सही है। अपने पूर्वजों के नाम पर वोट मांगते हैं। लेकिन, जब उनके कारनामों पर सवाल पूछे जाते हैं तो कहते हैं कि हुआ तो हुआ। इसी सोच ने भारत की रक्षा नीति और सैन्य नीति को कमजोर कर दिया। हिमाचल का एक भी परिवार ऐसा नहीं होगा जिसका बेटा, बेटी या कोई रिश्तेदार देश की रक्षा में जुटा नहीं होगा। हमारे शिमला संसदीय क्षेत्र से प्रत्याशी सुरेश कश्यप भी पूर्व फौजी हैं।
पीएम नरेंद्र मोदी ने सोलन के मशरूम, टमाटर, लहसून के साथ सिरमौर के अदरक का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सोलन के मशरूम, टमाटर, शिमला मिर्च, लहसून के लिए देश में बहुत बड़ा बाजार है। जिससे किसान व बागवान अपनी आर्थिकी मजबूत कर सकते हैं। हिमाचल की दूसरी मंडियों को भी इससे जोड़ा जा रहा है। ताकि बिचौलियों की दुकानदारी पर ताला लग जाए। उन्होंने कहा कि गांवों में सडक़ों का जाल बिछाया जा रहा है। जोकि किसानों व बागवानों के लिए मददगार होगा।
उन्होंने कहा कि जो देश के लिए लड़ते हैं उनके लिए कांग्रेस ने क्या किया। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि जब कांग्रेस की सरकार थी तो सेना बुलेट प्रूफ जैकेट मांग रही थी। कांग्रेस 6 साल तक मांग को टालती रही। हमारे बच्चे आतंकियों और नक्सिलयों के हमलों में शहीद होते रहे। अभी जीवन के सारे साने अधूरे, जिंदगी की शुरूआत और 18 और 20 साल की उम्र में मातृभूमि के लिए बलिदान दे दिया। कांग्रेस का एक ही जवाब जवान शहीद हुए हुआ तो हुआ। अपनी इसी सोच के चलते महा मिलावटी लोगों ने देश को रक्षा मामलों में आत्म निर्भर बनाने की दिशा में न गंभीरता से सोचा और न ही गंभीरता से कोई काम किया। कांग्रेस सेना के अधिकारियों और सेना का अपमान कर रही है। जब पूछा जाता है तो कहते हैं कि हुआ तो हुआ।
भारत स्वतंत्र हुआ तो रक्षा उत्पादन का डेढ़ सौ साल का अनुभव था। सवा दो साल पहले 18 आयुध के कारखाने थे। चीन में रक्षा उत्पादन करने वाला एक भी कारखाना नहीं था। चीन आज रक्षा सामग्री में आत्म निर्भर ही नहीं बल्कि विश्व में एक शक्ति के रूप में उबरा है। उन्होंने कहा कि 130 करोड़ हिदोस्तानी एकजुट होकर काम करते हैं तभी ऐतिहासिक काम होते हैं। बड़े-बड़े देश डिजिटलाईजेशन को लेकर अभी भी संघर्ष कर रहे हैं। लेकिन, भारत में जनधन आदि गरीब को शक्ति दे रहा है। सामान्य परिवारों को दस फीसदी आरक्षण मिल पाया है। यह चौकीदार के कारण हुआ है। एसटी व एससी को छेड़छाड़ किए बिना सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण दिया। इसके लिए कोई संघर्ष नहीं हुआ। सब कुछ प्यार से हुआ है।