दसवीं फैल लड़के ने राजकोट के युवक की फेसबुक और इंस्टाग्राम किया हेक 21 को युवाओं से रूबरू होंगे भाजपाध्यक्ष अमित शाह आकाशवाणी से आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की भेंटवार्ता का होगा प्रसारण रेप की घटनाओं पर हरियाणा के सीएम खट्टर की आपत्तिजनक टिप्पणी से चहुओर रोष भारत को पंड्या की कमी खलेगी : हसी आस्ट्रेलिया दौरे में भारतीय गेंदबाजों को इन खिलाड़ियों से रहना होगा सावधान न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को 227 पर समेटा विराट ने ऋषभ के साथ साझा की तस्वीरें अखाद्य तेल का आयात 8 फ़ीसदी बढ़ा मिंत्रा जबोंग का करेगी विलय, अनंत नारायणन बने रहेंगे सीईओ
Home / अन्य ख़बरें / राफेल मामले पर सीवीसी से मिले कांग्रेस नेता, भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने की मांग

राफेल मामले पर सीवीसी से मिले कांग्रेस नेता, भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने की मांग

नई दिल्ली (ईएमएस)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने राफेल मामले में सोमवार को केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) केवी चौधरी से मुलाकात कर आग्रह किया कि इस विमान सौदे में हुए कथित ‘भ्रष्टाचार’ को लेकर मामला दर्ज किया जाए। कांग्रेस ने सीवीसी से कहा कि वे इस मामले में संबंधित रिकॉर्ड की छानबीन की जाए ताकि ‘भ्रष्टाचार, सांठगांठ वाले पूंजीवाद (क्रोनी कैपिटलिज्म), कानून एवं प्रक्रिया के उल्लंघन तथा सरकारी खजाने को हुए नुकसान की बात जल्द से जल्द सार्वजनिक हो सके। हाल ही में कैग से मुलाकात कर मामले की जांच का आग्रह करने वाले कांग्रेस नेताओं ने सीवीसी के समक्ष राफेल विमान सौदे का विवरण रखा और कहा कि वह अपने ‘विधायी कर्तव्य’ का निर्वहन करते हुए ‘भ्रष्टाचार’ का मामला दर्ज करें और रिकॉर्ड की छानबीन करें। सीवीसी से मिलकर लौटने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने कहा, ‘यह सौदा पूरी तरह से पीएम ने ही किया था। 10 अप्रैल, 2015 का पीएम मोदी और फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद का जो स्टेटमेंट है। उस दिन के दोनों के बयान से स्पष्ट है कि ये वही विमान हैं,जो वायुसेना ने मांगे थे। आनंद शर्मा ने कहा कि इस डील के सारे दस्तावेज जब्त किए जाएं। सीवीसी की ओर से एफआईआर दर्ज की जाए। गौरतलब है कि इससे पहले विपक्षी पार्टी के नेताओं ने इससे पहले कैग से मुलाकात की थी और कहा था कि वे इस डील को लेकर ऑडिट रिपोर्ट तैयार करें और उस संसद में पेश करें।
इसके पूर्व सोमवार को सीवीसी से मुलाकात करने वाले कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल में राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल, वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, रणदीप सुरजेवाला, जयराम रमेश, अभिषेक मनु सिंघवी, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा, प्रमोद तिवारी और प्रणव झा शामिल थे। दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी पिछले कई महीनों से यह आरोप लगाते आ रहे हैं कि मोदी सरकार ने फ्रांस की कंपनी दसाल्ट से 36 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद का जो सौदा किया है,उसका मूल्य पूर्ववर्ती यूपीए सरकार में विमानों की दर को लेकर बनी सहमति की तुलना में बहुत अधिक है। इस सौदे के कारण सरकारी खजाने को हजारों करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। पार्टी ने यह भी दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सौदे को बदलवाया और एचएएल से ठेका लेकर रिलायंस डिफेंस को दिया गया।

Check Also

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश का तबादला, दूरसंचार मंत्रालय में बने एडिशनल सेक्रेटरी

नई दिल्ली (ईएमएस)। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर पर दिल्ली के मुख्य सचिव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *