गुजरात में कांग्रेस ने शुरू किया मिशन 50 परसेंट, 13 लोकसभा सीटों पर नजर

0
186

अहमदाबाद (ईएमएस)। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में मिली कामयाबी से कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं। अब उसकी नजरें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के गृहराज्य गुजरात पर लग गई हैं। कांग्रेस को सन 2014 लोकसभा चुनाव में गुजरात की एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी। इस बार उसने गुजरात में मिशन 50 परसेंट शुरू किया है, जिसके तरह उसने 13 लोकसभा सीटों पर विशेष रूप से अपना ध्यान केंद्रित किया है। पार्टी ने 2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राज्य में ‘मिशन 50 परसेंट’ शुरू किया है। 20 लोकसभा सीटों वाले राज्य में कांग्रेस ने 13 ऐसी सीटों की पहचान की है, जहां उसे कामयाबी मिल सकती है। कांग्रेस ने अपनी योजना के मद्देनजर राज्य में जमीनी स्तर पर काम करना शुरू कर दिया है। वह बूथ लेवल कमेटियों के लिए प्रतिबद्ध कार्यकर्ता भी खोज रही है।
कांग्रेस की योजना से वाकिफ सूत्रों ने बताया कि ‘मिशन 50 परसेंट’ में आनंद, अमरेली, बनासकांठा, साबरकांठा, पाटन, जूनागढ़, दाहोद, बारडोली, सुरेंद्रनगर, जामनगर, पोरबंदर, भरूच और मेहसाणा, आणंद जैसे 13 निर्वाचन क्षेत्र शामिल हैं। पिछले दो विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव का आकलन करने के बाद इन सीटों की पहचान की गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि इनमें ज्यादातर ग्रामीण इलाके या फिर आरक्षित सीटें हैं। यहां कांग्रेस की अच्छी मौजूदगी है और वह ज्यादा समर्थन हासिल कर सकती है।
पार्टी ने इन निर्वाचन क्षेत्रों के अंतर्गत आने वाले हरेक विधानसभा क्षेत्र में एक गुजरात कांग्रेस सचिव को भेजा है। सभी सचिवों को एक प्लान के तहत काम करने को कहा गया है। इसमें बूथ-लेवल कार्यकर्ताओं की पहचान करके उन्हें व्यवस्थित समिति में शामिल करने जैसे काम हैं। इसके अलावा समूचे विधानसभा क्षेत्र में सक्रिय कांग्रेस कार्यकर्ता की पहचान करना और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ सहभागिता बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। यह प्लान हरेक विधानसभा क्षेत्र के करीब 270 बूथों पर अमल में लाया जाएगा।
सूत्रों ने बताया कांग्रेस नेतृत्व ने उम्मीदवारों की एक लंबी सूची भी तैयार कर ली है। एक सूत्र के मुताबिक इनमें से कुछ ने तो अपने क्षेत्र में काम करना भी शुरू कर दिया है। हालांकि, इस सूची की घोषणा सहयोगियों से विचार विमर्श के बाद चुनाव के नजदीक आने पर ही की जाएगी। एक प्राइवेट कंसल्टेंसी इस पूरे कामकाज की निगरानी भी करेगी। वह विश्वसनीय डेटा और बैक-एंड सपोर्ट भी देगी। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के गुजरात सचिव जितेंद्र बघेल और विश्वरंजन मोहंती ‘मिशन 50 फीसदी’ पर नजर रखेंगे।
गुजरात को निर्वाचन क्षेत्र के आधार पर बांटा गया है। दोनों नेता इस बात का रिकॉर्ड रख रहे हैं कि जमीनी स्तर पर प्लान कैसे आगे बढ़ रहा है। कांग्रेस के आंतरिक विश्लेषण से पता चलता है कि उसे अहमदाबाद (पूर्व), अहमदाबाद (पश्चिम), नवसारी, सूरत, वडोदरा, गांधीनगर, भावनगर, कच्छ और वलसाड की शहरी सीटों पर कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है।