कांग्रेस के पास न नेता है न नीति : अमित शाह

0
3

चित्तौड़गढ़ (ईएमएस)। कांग्रेस के पास न नेता है न नीति। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस द्वारा राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के अपने उम्मीदवार की घोषणा नहीं किए जाने पर कही है। उन्होंने तंज कसते हुए सोमवार को यहां सवाल उठाया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजस्थान की जनता को अपने सेनापति का नाम क्यों नहीं बता रहे हैं? यहां चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, मैं राहुल गांधी से बार बार पूछता हूं कि आपकी सेना का सेनापति कौन है? लेकिन वह नहीं बताते हैं। शाह ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के पास न नेता है न नीति। उन्होंने कहा, चुनाव में एक ओर मोदी के नेतृत्व में देशभक्तों की टोली जैसी भाजपा खड़ी है तो दूसरी ओर राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी है, जिसका ना कोई नेता है ना नीति है ना सिद्वांत है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा, कांग्रेस पार्टी अपने वोट बैंक के स्वार्थ के चलते देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रही है। कांग्रेस के लोगों को एक ओर तो सर्जिकल स्ट्राइक में राजनीति दिखाई पड़ती है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी देश में घुसे घुसपैठियों के समर्थन में खड़ी हो जाती है।
सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, देश को सुरक्षित करने का काम भारतीय जनता पार्टी की मोदी सरकार ने किया है। राज्य की वसुंधरा राजे और केंद्र की मोदी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि भाजपा ने मोदी जी के नेतृत्व में जिस प्रकार विकास किया है उस पर जनता ने हमें आशीर्वाद दिया है और आज 19 राज्यों में भाजपा की सरकार बनी है। उन्होंने कहा, आज देश के 70 प्रतिशत भू भाग पर भाजपा का भगवा झंडा शान के साथ लहरा रहा है।
शाह ने कहा कि भाजपा की सरकार ने आठ करोड़ गरीबों के घर में शौचालय बनाकर माताओं और बहनों को शर्म से मुक्त कराया तथा सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पांच साल में छह करोड़ गरीब माताओं को घरेलू गैस सिलेंडर देने का काम किया है। उन्होंने एक बार फिर कहा कि राजस्थान में भाजपा की सरकार अंगद का पांव है जिसे कोई नहीं हिला सकता। राज्य की 200 में से 199 विधानसभा सीटों के लिए मतदान सात दिसंबर को होना है और चुनाव प्रचार पांच़ दिसंबर को थम जाएगा। शाह ने वीर भूमि चित्तौड़गढ़ को नमन करते हुए कहा कि अगर मेरे जैसे कई लोगों से ईश्वर पूछे कि अगला जन्म कहां लेना है तो मैं आंख मूंद कर कह सकता हूं कि महाराणा प्रताप की वीर भूमि पर जन्म लेना है।