कांग्रेस पार्षद दल के नेता ने दी पद से इस्तीफे की चेतावनी

0
12

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कांग्रेस में जीडीए बोर्ड मेम्बर उम्मीदवार बनाये जाने व सभी पार्षदों को एकजुट रखना बड़ी चुनौती बनता जा रहा है। अभी हाल ही में एक बैठक कंपनी बाग स्थित महानगर पार्टी कार्यालय पर आयोजित की गई थी। बैठक में करीब आधा दर्जन पार्षदों ने प्रमुखता से हिस्सा लिया था और शेष पार्षदों ने बैठक से दूरियां बनाये रखी थी।
बैठक में नहीं पहुंचने के पीछे पार्षद दल के नेता जाकिर अली सैफी की ओर से बताया गया कि कुछ पार्षदों के व्यक्तिगत कार्य थे तो कोई बीमार आदि था। लेकिन इस सबके पीछे कहानी कुछ ओर ही सामने आ रही है। कांग्रेस में पार्षदों को एकजुट करना चुनौती बना हुआ है और क्रॉस वोटिंग की कांग्रेस में अपार संभावनाएं बनी हुई हैं।
बता दें कि कांग्रेस पार्टी के नगर निगम के सदन में 16 पार्षद हैं। 16 पार्षदों में से चार पार्षदों की ओर से जीडीए बोर्ड सदस्य उम्मीदवार बनाये जाने के लिए दावेदारी की हुई है। दावेदारी के साथ कुछ पार्षदों ने अब मोर्चा बीच में ही छोड़ दिया है। लेकिन अब कांग्रेस में पार्षदों के बीच ही बड़ा गैप नजर आ रहा है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के पार्षद एकजुट नहीं है और वह क्रॉस वोटिंग की स्थिति में पहुंच चुके हैं। कोई कांग्रेसी पार्षद भाजपा के संपर्क में है तो कोई सपा या फिर बसपा के से संपर्क साधे हुए है।
आलम यह हो चुका है कि यदि सपा या बसपा का उम्मीदवार सामने आया तो कांग्रेस के ज्यादातर पार्षद क्रॉस वोटिंग करेंगे। बैठक से दूरियां बनाने वाले पार्षदों पर संगठन भी निगाहें रख रहा है। वहीं मीटिंग में पार्षदों के दूरी बनाने से पार्षद दल के नेता एवं एआईसीसी मेंबर जाकिर अली सैफी काफी आहत हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यंू ही अनुशासनहीनता रही तो वह पार्षद दल के पद से इस्तीफा दे देंगे।