सीएम योगी और मायावती ने आचार संहिता उल्लंघन मामले पर ईसी को सौंपा जवाब

0
75

लखनऊ (ईएमएस)। लोकसभा चुनाव में चुनाव प्रचार के दौरान राजनीतिक दलों का अपने स्पर्धियों को तीखे बयानों से आहत करने का सिलसिला चल रहा है वहीं चुनाव आयोग भी ऐसे बयानों को लेकर सख्त है। हाल ही में ईसी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और बसपा सुप्रीमो मायावती को ऐसे बयानों के अंतर्गत नोटिस जारी किए गए। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ‘अली बजरंगबली’ वाले अपने बयान पर चुनाव आयोग को जवाब सौंपा है। सीएम योगी ने चुनाव आयोग से कहा है कि वह भविष्य में अब कोई ऐसा बयान नहीं देंगे। सीएम योगी के इस बयान पर चुनाव आयोग ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था। चुनाव आयोग ने सीएम योगी को प्रथम दृष्टया धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाकर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने पर यह नोटिस भेजा था। योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में मुख्य चुनाव अधिकारी को अपना जवाब सौंपा है।
वहीं, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती को भी आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था। सूत्रो के मुताबिक, मायावती ने भी अपना जवाब नई दिल्ली में चुनाव आयोग को भेज दिया है। मायावती को देवबंद में उनके भाषण में मुसलमानों से किसी विशेष पार्टी को वोट न देने की अपील करने के लिये नोटिस जारी किया गया था। प्रथम दृष्टया यह पाया गया कि बसपा प्रमुख ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया था। वहीं, आदित्यनाथ को मेरठ में एक रैली को संबोधित करते हुए उनकी “अली” और “बजरंग बली” वाली टिप्पणी के लिए नोटिस दिया गया था। बीजेपी नेता आदित्यनाथ ने लोकसभा चुनावों की तुलना इस्लाम में श्रद्धेय ‘अली’ और हिंदू देवता बजरंग बली के बीच मुकाबले से की थी। आदित्यनाथ ने कहा था, “अगर कांग्रेस, सपा, बसपा को ‘अली’ पर विश्वास है तो हमें ‘बजरंग बली’ पर विश्वास है।