Current Crime
देश

स्वच्छ भारत स्थायी स्वच्छता कार्यशालाओं की शुरुआत हुई

नई दिल्ली (ईएमएस)। भारत सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने महाराष्ट्र के जल आपूर्ति एवं स्वच्छता विभाग के सहयोग से स्थायी स्वच्छता को लेकर क्षेत्रीय समीक्षा बैठकों की श्रंखला में आज पहली ऐसी बैठक का आयोजन किया। ये क्षेत्रीय समीक्षा नागपुर में आयोजित की गई जिसमें ग्रामीण स्वच्छता का जिम्मा संभालने वाले राज्य सचिवों, मिशन निदेशकों और अन्य राज्य स्वच्छ भारत मिशन अधिकारियों ने हिस्सा लिया। इनके अलावा महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और गुजरात के 25 जिलों के प्रतिनिधि भी इसमें मौजूद थे। इस समीक्षा बैठक की अध्यक्षता पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय के सचिव परमेश्वरन अय्यर ने की और उनके साथ में पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय के महानिदेशक (विशेष परियोजना) अक्षय राउत, महाराष्ट्र के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्यामलाल गोयल, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय के उप महानिदेशक हिरण्य बोरा और पेयजल एंव स्वच्छता मंत्रालय के संयुक्त सचिव समीर कुमार ने हिस्सा लिया है। स्वच्छ भारत मिशन के कार्यान्वयन तंत्र में गुणवत्ता और स्थिरता दोनों पर समान रूप से ध्यान दिया गया है, खासकर अब जब देश भर में ज्यादातर जिले खुले में शौच से मुक्त होने का स्तर पा चुके हैं। इस समीक्षा बैठक का लक्ष्य स्थायित्व पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करके काम करने और जमीनी स्तर पर हुए काम की गुणवत्ता को सुधारने पर था। गुणवत्ता पहलों के लिए संचार सुधारने और बुनियादी ढांचे व आंकड़ों को बेहतर करने के लिए इस बैठक में गुणवत्ता और स्थायित्व के संकेतकों की श्रंखला का दायरा छुआ गया है। अक्षय राउत ने अपने भाषण में साझा किया कि ऐसे में जब स्वच्छ भारत मिशन कार्यान्वयन के अपने पांचवें और आखिरी चरण में प्रवेश कर रहा है, तब देश की स्वच्छता को सुनिश्चित करने के लिए एक नए लक्ष्य के साथ आगे बढ़ने के जनांदोलन के लिए ये साल स्पष्ट रूप से मील का पत्थर है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: