Current Crime
दिल्ली दिल्ली एन.सी.आर

दिल्ली हवाईअड्डे पर तैनात सीआईएसएफ के जवान कर रहे अभ्यास

नई दिल्ली (ईएमएस)। विश्वभर में आतंकी हमलों से सीख लेते हुई भारतीय सुरक्षा बलों के युद्ध कौशल और भी ज्यादा मजबूत करने के लिए उन्हें एक स्पेशल ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके तहत उनके शूटिंग कौशल और भी बेहतर बनाने पर काम हो रहा है। अधिकारी की माने तो वह ‘वन शॉट वन हेड’ पर फोकस कर रहे हैं। यानि ‘एक बुलेट एक आतंकवादी’। न केवल कमांडो बल्कि दिल्ली हवाई अड्डे पर तैनात हर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के कमिNयों को एक शार्पशूटर बनने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। १ जनवरी से अब तक करीब ४,४६६ सुरक्षा बल कमियों ने ये ट्रेनिंग ली है। इनमें से ९०६ स्पेशल विंग जैसे क्विक रिएक्शन टीम और एंटी-टेरर स्क्वायड के कर्मी हैं।
प्रशिक्षण से जुड़े अधिकारी की माने तो ये सभी कमांडो हवाई अड्डे की सुरक्षा के लिए सामने आने वाली हर चुनौतीपूर्ण स्थिति का सामना करने के लिए अभ्यास कर रहे हैं। अभ्यास में बलों को कई तरह से शूटिंग करना सिखाया जा रहा है। ‘वन बुलेट बन हेड’ पर फोकस किया है। इसकी के तरत जवानों के गोली चलाने के कौशल को बेहतर बनाने के सारे प्रयास किए जा रहे हैं। ताकि किसी भी आपात स्थिति में वह लोगों की रक्षा कर सकें। मार्च २०१६ में ब्रिजेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक आत्मघाती आतंकी हमला हुआ था। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि हमलावर को एक ही गोली में नहीं मारा गया था। सीआईएसएफ के असिस्टेंट इंस्पेक्टर जनरल हेमेंद्र सिंह ने कहा दिसंबर २०१७ में शुरू की गई ४० फीट की इनडोर शूटिंग रेंज में एक समय में दो निशानेबाजों को ही अनुमति दी है। जिसके बाद उनके डाटा को रिकॉर्ड किया जाता है और उसका विश्लेषण किया है। सिंह ने बताया कि ३ टर्मिनल वाले एयरपोर्ट पर ५,५०० से ज्यादा सीआईएसएफ के जवान तैनात हैं। इन कमिNयों के लिए नियमित शूटिंग अभ्यास को एक महीने के पाठ्यक्रम के लिए अनिवार्य रूप से संशोधित किया है। इससे पहले, नियमित अभ्यास साल में केवल एक बार हुआ करता था।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: