कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / उत्तर प्रदेश / राकेश सिन्हा के मंदिर के लिए निजी बिल लाने को भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले ने बताया असंवैधानिक

राकेश सिन्हा के मंदिर के लिए निजी बिल लाने को भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले ने बताया असंवैधानिक

लखनऊ (ईएमएस)। राम मंदिर को लेकर संघ विचारक और भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने कहा कि अब समय आ गया है कि दूध का दूध पानी का पानी करने किया जाए। सिन्हा ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए प्राइवेट मेंबर बिल लाने की घोषणा की है और अब इस पर बीजेपी सांसद ने ही सवाल उठाए हैं। बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले ने इस असंवैधानिक करार दिया है। गौरतलब है कि दलित नेता सावित्री बाई अक्सर पार्टी के खिलाफ बयानबाजी करती रही हैं। उन्होंने कहा कि यह संविधान के धर्मनिरपेक्ष विचार के खिलाफ है।
बीते गुरुवार राकेश सिन्हा ने ट्वीट में लिखा था, ‘जो लोग बीजेपी और संघ को उलाहना देते रहते हैं कि राम मंदिर की तारीख बताएं, उनसे सीधा सवाल है कि क्या वे मेरे प्राइवेट मेंबर बिल का समर्थन करेंगे? समय आ गया है दूध का दूध पानी का पानी करने का। उन्होंने इस ट्वीट में राहुल गांधी, अखिलेश यादव, सीताराम येचुरी, लालू प्रसाद यादव और चंद्रबाबू नायडू को भी टैग किया था। शुक्रवार को फूले ने इस पर कहा कि सिन्हा का यह कदम आने वाले लोकसभा चुनाव में राजनीतिक फायदा उठाने के लिए की जा रही एक साजिश का हिस्सा है। उन्होंने कहा, मैं ऐसे कदम के विरोध में किसी भी हद तक जाऊंगी, जिससे संविधान को खतरा हो। उन्होंने कहा कि संविधान के खिलाफ जाने की कोशिश कर लोगों को भ्रमित नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि मामला कोर्ट में है, इसलिए ऐसा कोई बिल लाना कोर्ट के खिलाफ भी होगा। ज्ञात हो कि इससे पहले सावित्री बाई फूले ने कहा था कि अयोध्या की विवादित भूमि पर बुद्ध का मंदिर बनाना चाहिए। उन्होंने इलाहाबाद में कहा था कि अयोध्या की विवादित भूमि पर खुदाई की दौरान बुद्ध की कई प्रतिमाएं मिल चुकी हैं। इतना ही नहीं रिसर्च में भी यह बात सामने आई है कि विवादित स्थल बौद्ध धर्म से संबंधित है।

Check Also

इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक

रुड़की (ईएमएस)। आईआईटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के वैज्ञानिकों की टीम ने एक शोध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *