दलित से विवाह रचाने वाली भाजपा विधायक की पुत्री का मैरिज सर्टिफिकेट फर्जी !

0
97

प्रयागराज (ईएमएस)। इन दिनों मीडिया की सुर्खियां बनी दलित युवक से विवाह करने वाली भाजपा विधायक की पुत्री ने जो मैरिज सर्टिफिकेट प्रस्तुत किया है, वह फर्जी है। जिस मंदिर में विवाह होने की बात कही गयी है वहां के ही मुख्य पुजारी ने ऐसा कोई प्रमाणपत्र जारी करने से इनकार किया है।
विदित हो कि विधायक की बेटी ने एक वीडियो जारी कर आरोप लगाया था कि एक दलित व्यक्ति से शादी करने के बाद उसका जीवन खतरे में था। बेगम सराय में गंगा के किनारे स्थित प्राचीन राम जानकी मंदिर के महंत परशुराम दास ने कहा कि मंदिर में कोई विवाह नहीं कराया जाता है और मंदिर के नाम से जारी किया गया प्रमाण पत्र जाली है। विधायक की बेटी की शादी का प्रमाण पत्र सोशल मीडिया पर वायरल वायरल हो रहा है। जिसमें दर्शाया गया है कि यह बेगम सराय में स्थित प्राचीन रामजानकी मंदिर के नाम से जारी किया गया है। इसमें उल्लेख किया गया है कि अजितेश कुमार और साक्षी का विवाह चार जुलाई को शाम को राम जानकी मंदिर के परिसर में वैदिक हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार किया गया था। प्रमाण पत्र में दो गवाहों आयुष कुमार और सुधीर कुमार के हस्ताक्षर हैं। साथ ही यह उल्लेख किया गया है कि पुजारी विश्वपति शुक्ला ने अनुष्ठानों को कराया।
उल्लेखनीय है कि 23 वर्षीय साक्षी मिश्रा ने सोशल मीडिया पर बुधवार को एक वीडियो अपलोड करते हुए अपनी शादी 29 वर्षीय अजितेश के साथ करने का ऐलान किया था। अपनी तरफ से अपील में उन्होंने पिता से कहा था कि वे उनका पीछा छोड़ दें और शांतिपूर्वक उस जोड़े को जीने दें। इसके साथ ही, अजितेश और उसके परिवार को बख्श देने नहीं तो उसके परिणाम भुगतने की पिता को साक्षी ने चेतावनी भी दी। अजितेश कुमार के साथ बैठी साक्षी ने कहा कि मैंने अपनी स्वेच्छा से शादी की है और मेरे पिता ने मेरे लिए गुंडे भेजे हैं। मैं भागते हुए थक चुकी हूं और पुलिस सुरक्षा चाह रही हूं। उन्होंने आगे कहा कि अगर वे हमें पकड़ते हैं तो निश्चित रूप से वे हमारा कत्ल कर देंगे। अजितेश कुमार ने भी यह आरोप लगाया कि कुछ गुंडे उनका पीछा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उस वक्त वे बड़ी मुश्किल से बचे जब सुबह गुंडे उस होटल में पहुंच गए, जहां पर दोनों ठहरे हुए थे।