सौरभ भारद्वाज बोले, असामाजिक तत्वों को उकसाते है, जिससे वो हमला करें दिल्ली विवि में फिर से चुनाव कराने पर संशय बरकरार, हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा वैश्विक प्रतिभा सूची में भारत दो पायदान फिसलकर 53वें स्थान पर, स्विट्जरलैंड शीर्ष पर पीएम मोदी ने ‘कारोबार में सुगमता’ से जुड़े ग्रैंड चैलेंज का किया शुभारंभ भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टी20 आज, आठवीं श्रृंखला जीतने उतरेगी टीम इंडिया दोपहर 1.20 से शुरु होगा मुकाबला स्मिथ और वॉर्नर की वापसी की उम्मीदें टूटी, सीए ने प्रतिबंध बरकरार रखा मैरी कॉम सेमीफाइनल में पहुंची टीम इंडिया ने 12 खिलाड़ियों की घोषणा की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी सायबर कैफे संचालकों को करना होगा आदेश का पालन हर्षिता तोमर ने मध्यप्रदेश को दिलाया स्वर्ण पदक खेल संचालक ने बधाई दी
Home / अन्य ख़बरें / सरकारी दफ्तरों में 2 माह तक प्लास्टिक पर बैन

सरकारी दफ्तरों में 2 माह तक प्लास्टिक पर बैन

नई दिल्ली (ईएमएस)। केंद्र सरकार ने पर्यावरण को प्लास्टिक से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए सरकारी दफ्तरों, सार्वजनिक उपक्रमों के कार्यालयों में प्लास्टिक के प्रयोग पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। अधिकारी-कर्मचारी आगामी दो माह तक प्लास्टिक के कप-ग्लास, प्लेट, बोतल आदि का इस्तेमाल नहीं करेंगे। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय के सचिव युद्धवीर सिंह मलिक ने कहा कि 15 सितंबर से दो माह के लिए प्लास्टिक का प्रयोग पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा। उन्होंने कहा कि इस साल विश्व पर्यावरण दिवस का विषय प्लास्टिक प्रदूषण को हराना है। भारत पर्यावरण दिवस की वैश्विक मेजबानी कर रहा है। इसलिए इसकी शुरुआत सरकारी दफ्तरों से की जा रही है। प्लास्टिक की बोतल में पानी, प्लास्टिक कप-प्लेट, प्लास्टिक ग्लास, प्लास्टिक जग आदि के अलावा फाइलों के प्लास्टिक फोल्डर व बैनर आदि का भी इस्तेमाल नहीं होगा। यह व्यवस्था मुख्यालय, ब्रांच कार्यालय, सरकारी उपक्रमों, सार्वजनिक क्षेत्र के दफ्तरों में लागू रहेगी। पर्यावरण , सड़क परिवहन मंत्रालय के अलावा केंद्र सरकार के दूसरे मंत्रालयों में भी ये निर्देश जारी किए जा रहे हैं।

Check Also

एफसीआई कर्मचारियों के समर्थन में पहुंचे सिसोदिया

नई दिल्ली (ईएमएस) | भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के दिल्ली स्थित कार्यालय के नजदीक कर्मचारियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *