बिहारी बाबू शत्रुघ्न बोले- रविशंकर प्रसाद से निजी दुश्मनी नहीं, भारी मतों से जीतूंगा

0
132

पटना (ईएमएस)। भाजपा के बागी रहे और अब कांग्रेस का दामन छाम चुके बिहारी बाबू उर्फ शत्रुघ्न सिन्हा शुक्रवार को पहली बार पटना के सदाकत आश्रम स्थित कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे। यहां मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी देश के वर्तमान और भविष्य दोनों हैं। बिहारी बाबू के मुताबिक, उन्होंने पहले ही कहा था कि सिजुएशन कुछ भी हो लोकेशन चेंज नहीं होगा। और आज मैं आपके बीच हूं। इस दौरान उन्होंने बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया। उन्होंने कहा ‘वन मैन आर्मी’ के लोगों ने मुझे अपमानित किया और बिहार भाजपा के कुछ नेता भी इसमें शामिल रहे। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, वह पार्टी नहीं छोड़ने की बात पर कायम थे, लेकिन जब मेरे नाम की घोषणा पार्टी ने नहीं की तो मुझे ‘राइटिंग ऑन द वॉल’ समझ में आने लगा। शत्रुघ्न सिन्हा ने दावा किया कि, उन्हें ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल से भी न्योता मिला था, लेकिन लालू यादव की सलाह पर कांग्रेस में शामिल हुए। अब कांग्रेस में शामिल हो गए हैं तो वो पीछे मुड़कर नहीं देखेंगे। साथ ही कहा कि ‘वन मैन शो’ और ‘टू मैन आर्मी’ का वक्त खत्म होने वाला है। बिहारी बाबू ने पटना साहिब को पहली और आखिरी पसंद बताया। इस दौरान बिहार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, प्रेमचंद्र मिश्रा सहित दूसरे कांग्रेसी नेता भी मौजूद थे।
ज्ञात हो कि पटना साहिब से मौजूदा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा इसबार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। जब वह पटना एय़रपोर्ट पहुंचे तो कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और महागठबंधन के दूसरे कार्यकर्ताओं ने उनका शानदार स्वागत किया। इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा ‘रविशंकर प्रसाद से कोई निजी दुश्मनी नहीं है। पिछले चुनाव में पटना साहिब से रिकॉर्ड मतों से चुनाव जीते थे और इस बार भी ऐसा ही रहेगा।’ इस दौरान उन्होंने दावा किया कि उन्हें लालू प्रसाद का आशीर्वाद प्राप्त है और उनकी सहमति और स्वीकृति से ही चुनाव लड़ रहे हैं। अपनी बेटी और फिल्म अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा के प्रचार अभियान में शामिल होने के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, पिछले चुनाव में सोनाक्षी प्रचार करने नहीं आई थी। पटना की जनता ही यहां की स्टार है। चुनाव प्रचार के लिए किसी स्टार को लाने की जरूरत नहीं है। 2014 के चुनाव में भी किसी स्टार प्रचारक को नहीं बुलाया था और रिकॉर्ड मतों से विजयी हुए थे।