दागी उम्मीदवारों से सावधान

0
200

त्रिस्तीय पंचायत चुनावों की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। लोकसभा चुनाव के बाद जनता के बीच फिर उम्मीदवार खड़े किये जाने की तैयारी हो रही है। (ghaziabad hindi news) सपा, बसपा , भाजपाऔर कांग्रेस रालोद जैसे प्रमुख दलों ने इस महत्तवपूर्ण चुनाव में उम्मीदवारों को समर्थन देने की घोषणा कर दी है। ग्रामीण परिपेक्ष में होने वाले ये चुनाव सभी पार्टियों की दिशा और दशा तय करेंगे। सिंबल नहीं होने के बावजूद इन चुनावों से ये साबित हो जायेगा, कि कौन कितने पानी में है, लेकिन इस सबके बावजूद आम जन को इस बात पर जरूर ध्यान देना होगा कि वह किसी दागी को लोकतांत्रिक व्यवस्था का भागीदार ना बना दे। ग्रामीण क्षेत्र में होने वाले जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत, ब्लाक प्रमुख और ग्राम प्रधान के चुनावों में कई उम्मीदवार अपना भाग्य अजमायेंगे, लेकिन सबसे ज्यादा ध्यान योग्य बात यह होगी कि इनमें से कितने दागियों ने चुनाव जीतने की तैयारी की है। ये दागी तरह तरह के लोक लुभावन वायदें करेंगे। आर्थिक व अन्य उपहारों के माध्यम से मतदाओं को प्रभावित करने की कौशिश की जायेगी। ऐसे में हमे इस बात पर गौर करना होगा कि हमारे क्षण भर का लालच किसी ऐसे व्यक्ति को हमारा सरताज ना बना दे, जिसके डीएनए में अपराध बसा हुआ है।

अगर हम किसी दागी को जीता कर पंचायत सदस्य या कुछ ओर बनायेंगे, तो हम यथा राजा तथा प्रजा वाली कहावत को चरितार्थ करेंगे। चुना गया गलत राजा अपने नाम के आगे महज तमगा लगाकर पांच वर्षो तक हमारे सर पर राज करेगा, लेकिन वह क्षेत्र में नजर आयेगा और विकास करायेगा, यह शायद ही संभव हो। ऐसे में लोकतंत्र के इस पर्व में सभी उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को जरूर टटोलकर देखना होगा। हमे कोशिश करनी होगी कि हम जात पात से ऊपर उठकर सही चेहरे को अपना अमूल्य वोट दें ताकि हमारे मताधिकार की गरिमा भी बनी रहे। चुनाव आने में ज्यादा समय नहीं बचा है, ऐसे में गांव का हर संभ्रात व्यक्ति किसान, मजदूर हर जात समुदाय का आदमी आपस में बैठकर निर्णय ले कि उसे एक स्वच्छ छवि के व्यक्ति को अपना नेता बनाना है। नेता अच्छा होगा तो गांवों में विकास होगा, सम्रद्धि आयेगी, नहीं तो पांच वर्षो तक यही कहना पड़ेगा, कि इस बार तो हमने इसे चुनकर गलती कर दी, आगे से ऐसा नहीं करेंगे। -धन्यवाद! मनोज गुप्ता