दिल्ली से कटरा के बीच दौड़ेगी एक और वंदे भारत एक्सप्रेस!

0
37

नई दिल्ली (ईएमएस)| भारतीय रेलवे को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से जल्द ही एक और वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने के लिए मंजूरी मिलने की उम्मीद है, जोकि नई दिल्ली से लेकर जम्मू एवं कश्मीर स्थित कटरा के बीच चलाई जाएगी। यह जानकारी रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने दी। सूत्रों के अनुसार नई दिल्ली और कटरा के बीच दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने का प्रस्ताव पीएमओ के पास है। हमें उम्मीद है कि आने वाले एक सप्ताह में इसे मंजूरी मिल जाएगी। अधिकारी ने कहा कि दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने की योजना, जिसे पहले दिल्ली और कटरा के बीच ट्रेन-18 के नाम से जाना जाता था, उसे कुछ सप्ताह पहले मंजूरी के लिए भेजा गया था। रेलवे बोर्ड ने वैष्णो देवी मंदिर के लिए दिल्ली और कटरा के बीच स्वदेश निर्मित हाई स्पीड ट्रेन चलाने का फैसला किया है। यह फैसला नई दिल्ली और वाराणसी के बीच चलने वाली वंदे भारत ट्रेन की सफलता के बाद लिया गया है। इस रूट पर ट्रेन ने पांच महीनों में 1.5 लाख से अधिक रनिंग कि.मी. पूरी कर ली है। 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पाने में सक्षम यह ट्रेन दिल्ली और कटरा के बीच यात्रा के समय में पांच घंटे से अधिक की कटौती करेगी। फिलहाल एक सुपरफास्ट ट्रेन को दिल्ली से कटरा तक 655 किमी की दूरी तय करने में लगभग 12 घंटे लगते हैं। वंदे भारत एक्सप्रेस केवल आठ घंटे में यह दूरी तय कर सकेगी। वैष्णो देवी मंदिर की तीर्थयात्रा के कारण दिल्ली-कटरा मार्ग सबसे व्यस्तम रेल मार्गों में माना जाता है। यही वजह है कि रेलवे बोर्ड ने दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए दिल्ली-कटरा मार्ग को चुना है।
– रेलवे का प्रस्ताव
रेलवे बोर्ड ने इस ट्रेन को तीन दिन सोमवार, गुरुवार और शनिवार को चलाने का प्रस्ताव दिया है। लेकिन इसे मांग के आधार पर सप्ताह में पांच दिन तक बढ़ाया जा सकता है। वंदे भारत एक्सप्रेस दिल्ली से सुबह छह बजे रवाना होगी और दोपहर दो बजे कटरा पहुंचेगी। उसी दिन, यह कटरा से दोपहर तीन बजे प्रस्थान करेगी और रात 11 बजे राष्ट्रीय राजधानी पहुंचेगी। ट्रेन के कटरा पहुंचने से पहले अंबाला, लुधियाना और जम्मूतवी कुल तीन ठहराव (स्टॉप) होंगे। इसे दिल्ली-कटरा मार्ग पर 130 किमी प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार से चलाया जाएगा। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल 15 फरवरी को पहली वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई थी।